एग्जिट पोल ने कराया कांग्रेस का राजस्थान में 'राजतिलक', मगर मुख्यमंत्री कौन, जानें अशोक गहलोत का जवाब

भले ही राजस्थान में शुक्रवार को जारी एग्जिट पोल के मुताबिक कांग्रेस की सरकार बनती दिख रही है, मगर कांग्रेस के भीतर असल माथा-पच्ची अब शुरू होने वाली है.

एग्जिट पोल ने कराया कांग्रेस का राजस्थान में 'राजतिलक', मगर मुख्यमंत्री कौन, जानें अशोक गहलोत का जवाब

अशोक गहलोत और सचिन पायलट (फाइल फोटो)

खास बातें

  • एग्जिट पोल में राजस्थान में कांग्रेस की जीत.
  • कांग्रेस ने अब तक सीएम फेस की घोषणा नहीं की.
  • सचिन पायलट या अशोक गहलोत? अब भी बड़ा सवाल
नई दिल्ली:

भले ही शुक्रवार को जारी एग्जिट पोल के मुताबिक राजस्थान कांग्रेस की सरकार बनती दिख रही है, मगर कांग्रेस के भीतर असल माथा-पच्ची अब शुरू होने वाली है. 11 दिसंबर के परिणाम में अगर एग्जिट पोल के नतीजे सही साबित होते हैं तो राजस्थान में कांग्रेस का राजतिलक तो होगा, मगर मुख्यमंत्री का ताज किसके सिर पर होगा, यह अभी भी बड़ा सवाल है और इस सवाल पर अब तक कोई खुलकर बोलने के लिए तैयार नहीं है. हालांकि, यह बात तय है कि अशोक गहलोत या फिर सचिन पायलट में से ही कोई एक राजस्थान में कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद का दावेदार होगा. साथ ही जब तक नतीजों की घोषणा नहीं हो जाती, कांग्रेस पार्टी यह फैसला सुरक्षित रखना चाहती है. 

Assembly elections 2018 Exit Polls: छत्तीसगढ़ में कांटे की टक्कर, राजस्थान में कांग्रेस सरदार, मध्य प्रदेश में फंसी बीजेपी, तेलंगाना में न बीजेपी न कांग्रेस

दरअसल, पिछले महीने चुनावी समीकरणों को साधने के लिए कांग्रेस ने अशोक गहलोत और सचिन पायलट में से किसी एक को चुनाव से पहले सीएम फेस के रूप में चुनने से इनकार कर दिया था. यहां तक की 67 वर्षीय अशोक गहलोत भी एनडीटीवी के इस सवाल का जवाब देने से बचे. 

Rajasthan Assembly Elections Exit Polls: राजस्थान में इतिहास नहीं बना पाएगी बीजेपी, कांग्रेस के हाथ में आ सकती है सत्ता

एनडीटीवी ने जब पूछा कि आखिर राजस्थान में कांग्रेस का दूल्हा कौन होगा? इस पर दो बार मुख्यमंत्री रहे अशोक गहलोत ने कहा कि इस सवाल से मुझे हर दिन सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से पार्टी ने कभी राज्य में चुनाव से पहले मुख्यमंत्री उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है. 

वोटर लिस्ट से ज्वाला गुट्टा का नाम गायब, अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा- 'यह पूरे देश में हो रहा है'

अशोक गहलोत ने कहा कि मेरी कोई प्राथमिकता नहीं है. अगर मुझे पार्टी दिल्ली में काम करने को बोलेगी तो मैं दिल्ली में काम करूंगा और राजस्थान में कहेगी तो मैं राजस्थान में ही काम करूंगा. उन्होंने कहा कि हाई कमांड ही है जो काम का निर्धारण करेगी. मेरे लिए कोई पद की कोई प्रायोरिटी नहीं है. मेरा मानना है कि किसी के लिए भी प्रायोरिटी नहीं होनी चाहिए. पार्टी जो बोले वही करना चाहिए.

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें लगता है कि 41 वर्षीय सचिन पायलट, जो राज्य के कांग्रेस अध्यक्ष भी हैं, एक अच्छा मुख्यमंत्री हो सकते हैं या फिर कुछ और अनुभव की आवश्यकता होगी, इस सवाल पर अशोक गहलोत ने काफी नापतौल कर जवाब दिया. उन्होंने कहा कि यह एक हाईपोथेटिकल सवाल है. मैं किसी की क्षमताओं पर कोई प्रश्न चिह्न नहीं लगाऊंगा. आपको मुझसे यह नहीं पूछना चाहिए. 

शरद यादव की टिप्पणी पर वसुंधरा राजे का पलटवार: मैं अपमानित महसूस कर रही, ये सभी महिलाओं का अपमान

Newsbeep

यह पूछ जाने पर कि वह राजस्थान में काम करना पसंद करेंगे या फिर नेशनल पॉलिटिक्स में, इस सवाल पर अशोक गहलोत ने कहा कि जो पार्टी कहेगी, वही करना मेरा कर्तव्य होगा. मैं दस साल तक मुख्यमंत्री भी रहा, तीन बार केंद्रीय मंत्री भी रहा, मैंने कभी किसी चीज के लिए नहीं कहा. पार्टी ने मुझे सब कुछ दिया. फिर यह सवाल अभी क्यों?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: एग्जिट पोल पर कांग्रेस नेता अशोक गहलोत की पहली प्रतिक्रिया