इसलिए पहले इंटरनेशनल गोल्ड जीतने को दुती चंद ने बताया ठीक ओलिंपिक जैसा

इसलिए पहले इंटरनेशनल गोल्ड जीतने को दुती चंद ने बताया ठीक ओलिंपिक जैसा

वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स में मेडल जीतने वाली पहली महिला एथलीट बनी दुती चंद

खास बातें

  • पिछले 15 सालों से देख रही थी भारत के लिए गोल्ड जीतने का सपना
  • 2018 के एशियाई खेलों में दो रजत पदक जीत चुकी हैं दुती
  • हीमा दास के बाद इंटरनेशनल लेवल पर गोल्ड जीतने वाली बनी दूसरी धावक
नई दिल्ली:

भारत की फर्राटा धाविका दुती चंद (Dutee Chand) ने  इटली के नापोली में खेले गए वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स में महिलाओं की 100 मीटर स्पर्धा में 11.32 का समय निकाल गोल्ड मेडल जीता. इसके साथ ही वह इस टूर्नामेंट में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट भी बनी. जीत के बाद दुती ने NDTV को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि वह पिछले वर्षों से इंटरनेशनल लेवल पर मेडल जीतने के लिए कड़ी मेहनत कर रही थी. उन्होंने कहा, 'हर एथलीट का सपना होता है कि वह अपने देश के लिए इंटरनेशनल लेवल पर मेडल जीते. मैं पिछले 15 सालों से भारत के लिए एक इंटरनेशनल मेडल जीतने का सपना देख रही हूं. मैंने एशियाई खेलों में मेडल जीते हैं, लेकिन यह मेरा पहला इंटरनेशनल मेडल है.'

भारत की स्‍टार एथलीट हिमा दास ने दो सप्ताह में जीता तीसरा गोल्ड मेडल..

इसके साथ ही दुती ने कहा, 'यह मेरे लिए दूसरे ओलंपिक की तरह है क्योंकि यह प्रतियोगिता रियो ओलंपिक की तरह ही कठिन थी. हालांकि शुरुआत में मैं वर्ल्ड की सर्वश्रेष्ठ एथलीटों को देखकर घबरा गई थी लेकिन मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और गोल्ड मेडल जीता.' लेन नंबर 4 पर दौड़ते हुए दुती आठ एथलीटों में सबसे आगे थी. हालांकि उन्हें स्विट्जरलैंड की डेल पोंटे (11.33) से चुनौती भी मिली.  

फर्राटा धाविका हिमा दास ने एक सप्ताह में जीता दूसरा स्वर्ण पदक

दुती अब हीमा दास के बाद एक इंटरनेशनल गेम्स में गोल्ड जीतने वाली दूसरी भारतीय बन गई हैं, जिन्होंने पिछले साल वर्ल्ड जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 400 मी. में शीर्ष स्थान हासिल किया था. दुती ने 2018 में हुए एशियाई खेलों में 100मी. और 200मी. में एक-एक रजत पदक भी हुआ है. 

VIDEO: जानिए कि कैसे और कहां एथलेटिक्स ने उड़ाया क्रिकेट का विकेट

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com