NDTV Khabar

बेंगलुरू : होटल ने नहीं दिया हिंदू-मुस्लिम दंपति को कमरा, बताई यह वजह

दंपति का कहना है कि होटल ने उन्हें कमरा देने से सिर्फ इसलिए इनकार कर दिया क्योंकि वे अलग-अलग धर्म से हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेंगलुरू : होटल ने नहीं दिया हिंदू-मुस्लिम दंपति को कमरा, बताई यह वजह

खास बातें

  1. दंपति का आरोप - मेरी आईडी मांगी और कहा सिंगल रूम नहीं दे सकते
  2. सीसीटीवी फुटेज में पति-पत्नी होटल प्रबंधन से बहस करते नजर आए
  3. होटल प्रबंधन ने दंपति से इंटरव्यू लेटर दिखाने को कहा
बेंगलुरू: केरल के एक दंपति शफीक सुबैदा और दिव्या डीवी ने बेंगलुरू के एक होटल पर किराए से कमरा नहीं देने का आरोप लगाया है. दंपति का कहना है कि होटल ने उन्हें कमरा देने से सिर्फ इसलिए इनकार कर दिया क्योंकि वे अलग-अलग धर्म से हैं.  शफीक ने NDTV को बताया, "उन्होंने मेरी आईडी मांगी और कहा कि दिव्या हिंदू है और आप मुस्लिम हैं. हम आपको सिंगल रूम कैसे दे सकते हैं." उन्हें दूसरे होटल पर जाना पड़ा. देश के विभिन्न हिस्सों में जारी धार्मिक असहिष्णुता की खबरों के बीच बेंगलुरू के छोटे होटलों में भी इसकी चपेट में हैं. यह दंपति ओलिव रेजीडेंसी में रूम में तलाश में मंगलवार की सुबह गया था. 

कोझिकोड में रहने वाले शफीक ने नाराजगी जताते हुए कहा, "उन्होंने ये क्यों देखा कि मैं मुस्लिम हूं और मेरी पत्नी हिंदू है. उन्होंने हमें कमरा देने से इनकार कर दिया. मेरी पत्नी कानून पर अपनी पीएचडी कर रही है और उसने होटल प्रबंधन से पूछा कि वे किस आधार पर रूम देने से इनकार रहे हैं. लेकिन उन्होंने हमारी बात ही नहीं सुनी." सीसीटीवी फुटेज में पति-पत्नी होटल प्रबंधन से बहस करते नजर आ रहे हैं और थोड़ी देर बाद वे वहां से चले जाते हैं.  

उधर, ओलिव रेसीडेंसी के मालिक शिवमधु का कहना है पति-पत्नी को होटल देने से इनकार किया गया था लेकिन इसकी अलग थी. शिवमधु ने NDTV से अपना पक्ष रखते हुए कहा, "इस मामले का हिंदू-मुस्लिम से कोई लेना-देना है. समस्या यह थी कि उनके पास कोई वैध आईडी नहीं थी और लॉगेज भी नहीं था. हम लोग भ्रम में पड़ गए. यही वजह थी कि हमने रूम देने से इनकार कर दिया.  

टिप्पणियां
शिवमधु ने आगे बताया, "दंपति ने कहा था कि वे साक्षात्कार के लिए आए हैं और एक घंटे में चले जाएंगे. हमारे कैशियर ने इंटरव्यू लेटर दिखाने को कहा लेकिन उन्होंने नहीं दिखाया. धर्म का कोई मामला ही नहीं है. 60 से 70 फीसदी हमारे मेहमान मुस्लिम ही होते हैं."  

जब हमने पूछा कि होटल में रूम लेने के लिए क्या गेस्ट को इंटरव्यू लेटर दिखाना जरूरी है, तो शिवमधु ने कहा, "वे आधे घंटे के लिए रूम चाह रहे थे. इसलिए कई तरह की समस्याएं थीं. दंपति आते हैं और आत्महत्या का प्रयास करने जैसी कई गतिविधियां करते हैं. यही मुख्य वजह थी." उधर, शफीक ने होटल मालिक के कारण से असहमति जताई. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement