NDTV Khabar

बेंगलुरु के भीड़ भरे इलाकों पर नजर रखने के लिए घुड़सवार पुलिस की तैनाती

186 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेंगलुरु के भीड़ भरे इलाकों पर नजर रखने के लिए घुड़सवार पुलिस की तैनाती

बेंगलुरु शहर के भीड़भाड़ वाले इलाकों में घुड़सवार पुलिस की तैनाती की गई है.

बेंगलुरु: बेंगलुरु में अब भीड़ भरे इलाकों में अब घोड़ों पर सवार पुलिस के जवान हर गतिविधि पर नजर रखेंगे. जरूरत पड़ने पर यह घुड़सवार पुलिस कर्मी संकरे और भीड़भाड़ वाले रास्तों से होकर तुरंत मौके पर पहुंचेंगे और हालात पर काबू पाएंगे. बेंगलुरु में तेजी से बढ़ती आबादी और वाहनों की तादाद की वजह से अपराधों में भी वृद्धि हुई है. ऐसे में अब भीड़भाड़ वाले इलाकों में घुड़सवार पुलिस की तैनाती पहली बार की गई है.
 
benlauru mounted police

घुड़सवार पुलिस की शुरुआत चार घोड़ों से हुई है जो कि जल्द ही 11 घोड़ों का कनटिनजेंट बन जाएगा. यह घोड़े मैसूर से लाए जाएंगे जहां माउंटेड पुलिस फोर्स की एक पूरी कंपनी 1951 से स्थानिय पुलिस की मदद कर रही है. बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर प्रवीण सूद ने मीडिया को बताया कि चुने हुए दिनों में खास जगहों पर इनकी तैनाती दोपहर तीन बजे से बाजार बंद होने तक की जाएगी.
 
benlauru mounted police

मैसूर में माउंटेड पुलिस का इस्तेमाल लंबे अरसे से हो रहा है. हालांकि इस पर सवाल भी उठाए जा रहे थे कि आखिर इतने रुपये अपेक्षाकृत छोटे से शहर की पोलिसिंग पर क्यों खर्च किए जा रहे हैं? अब बेंगलुरु में अस्तबल बनवाए जा रहे हैं ताकि इन घोड़ों की देखरेख अच्छी तरह से हो सके.

दरअसल कर्नाटक के गृह मंत्री जी परमेश्वर और बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर प्रवीण सूद हाल ही में एक पुलिस कॉन्फ्रेंस के सिलसिले में लंदन गए थे. वहां की घुड़सवार पुलिस से यह दोनों काफी प्रभावित हुए. इसके बाद बेंगलुरु में घुड़सवार पुलिस की तैनाती का फैसला लिया गया.
 
benlauru mounted police

सरकार ने 20 करोड़ रुपये सिटी पुलिस कंट्रोल रूम को दिए हैं ताकि इसका आधुनिकीकरण मुंबई व दिल्ली की तर्ज पर किया जा सके और जरूरतमंदों तक पुलिस की मदद 15 मिनट के अंदर पहुंच सके. एक माह के अंदर बेंगलुरु पुलिस में ऐसे कई और बदलाव लाने के प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement