NDTV Khabar

Video: भोजपुरी सितारों ने दी अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि, पढ़ी उनकी कविताएं...

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने दिल्ली के एम्स अस्पताल में गुरुवार की शाम 5 बजकर 5 मिनट पर आखिरी सांस ली.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Video: भोजपुरी सितारों ने दी अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि, पढ़ी उनकी कविताएं...

Bhojpuri Cinema: रवि किशन ने पढ़ी अटल बिहारी वाजपेयी की कविता

खास बातें

  1. भोजुपरी सिनेमा के सुपरस्टार हैं रवि किशन
  2. रवि किशन ने पढ़ी अटल बिहारी वाजपेयी की कविता
  3. कविता पढ़ते हुए इमोशनल
नई दिल्ली:

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने दिल्ली के एम्स अस्पताल में गुरुवार की शाम 5 बजकर 5 मिनट पर आखिरी सांस ली. अटल बिहारी वाजपेयी की तबियत पिछले कुछ दिन से ठीक नहीं चल रही थी और उन्हें जून में ही एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अटल बिहारी वाजपेयी की तबियत बिगड़ने पर 15 अगस्त की शाम से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई नेता एम्स अस्पताल में मिलने पहुंच रहे थे. गुरुवार की सुबह से ही अटल बिहारी वाजपेयी को देखने के लिए अस्पताल में लोगों का तांता लगा हुआ था. उनकी मौत की खबर आने के बाद कई भोजपुरी स्टार्स ने भी उन्हें सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर श्रद्धांजलि दी. रवि किशन से लेकर अवधेश मिश्रा तक, हर किसी ने उनकी कविता पढ़कर उन्हें नमन किया.

अटल बिहारी वाजपेयी  बीच फिल्मी सितारे अपने-अपने तरीके से अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ी यादें साझा कर रहे हैं. भोजपुरी सिनेमा (Bhojpuri Cinema) के दिग्गज स्टार और बीजेपी नेता रवि किशन (Ravi Kishan) ने उनके लिए कविता पढ़ी है. रवि किशन इस कविता को पढ़ते हुए इमोशनल हो गए और उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी के प्रति इस तरह अपना प्यार जताया.


Ebenezer Cobb Morley: एबेनेज़र कॉब मोर्ली कहलाए 'Father Of Modern Football', लिखे फुटबॉल के Rules, Google ने बनाया Doodle

रवि किशन भोजपुरी फिल्मों के सीनियर एक्टर हैं और अटल बिहारी वाजपेयी की कविताएं उनकी पसंदीदा भी रही हैं. रवि किशन ने बहुत ही शानदार से इस कविता को पढ़ा, और अपने भाव इस कविता के जरिये पेश किए हैंः 

अटल बिहारी वाजपेयी वाणी ही नहीं कलम के भी हैं जादूगर, जब जोश में बोले- मस्तक नहीं झुकेगा...

टिप्पणियां

भारत जमीन का टुकड़ा नहीं,
जीता जागता राष्ट्रपुरुष है.
हिमालय मस्तक है, कश्मीर किरीट है,
पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं.
पूर्वी और पश्चिमी घाट दो विशाल जंघायें हैं.
कन्याकुमारी इसके चरण हैं, सागर इसके पग पखारता है.
यह चन्दन की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है,
यह तर्पण की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है.
इसका कंकर-कंकर शंकर है,
इसका बिन्दु-बिन्दु गंगाजल है.
हम जियेंगे तो इसके लिये
मरेंगे तो इसके लिये.

देखें अवधेश मिश्रा का वीडियो-

 
...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement