NDTV Khabar

दलित की बेटी की शादी में बैंड-बाजा और जश्न की सजा...कुएं में डाला किरासन तेल

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दलित की बेटी की शादी में बैंड-बाजा और जश्न की सजा...कुएं में डाला किरासन तेल

खास बातें

  1. 500 दलित इस कुएं से भरते थे पानी
  2. अब दलित महिलाओं को 2 किमी दूर नदी से पानी लाना पड़ता है
  3. दबंगों की चेतावनी के बावजूद दलित की बेटी की शादी धूमधाम से हुई थी
भोपाल:

मध्य प्रदेश के माना गांव में एक दलित की बेटी की धूमधाम से हुई शादी को बमुश्किल हफ्ता भर ही हुआ है, लेकिन यहां के दलित परिवारों को भारी परेशानी से रू-ब-रू होना पड़ रहा है. यहां के करीब 500 दलित जिस कुएं से पानी भरते थे, उसमें अचानक किरासन तेल पाया गया. दलितों ने प्रशासन को तत्काल इसकी सूचना दी, जिसके बाद कुएं से पंप के जरिये किरासन तेल मिला पानी निकाला गया. ऐसा प्रतीत होता है कि कुएं में जानबूझकर किरासन तेल डाला गया.

दलितों का कहना है कि चूंकि चंदर मेघवाल नामक शख्स ने दलितों की धमकी को नजरअंदाज कर अपनी बेटी की शादी खूब धूमधाम से की थी, इसी के बदले के तौर पर दबंगों ने कुएं के पानी को खराब करने की साजिश की. उल्लेखनीय है कि 23 अप्रैल को आगर मालवा क्षेत्र के माना गांव में आजादी के बाद पहली बार दलित समाज के एक युगल की शादी में बैंड बाजे के साथ धूमधाम से बारात निकाली गई, लेकिन इसके लिए सरकार को सशस्त्र पुलिस बल तैनात करनी पड़ी.

जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर दूर सुसनेर तहसील अंतर्गत इस गांव में आजादी के बाद से लेकर आज तक कभी भी दलित समाज के विवाह कार्यक्रम में बैंड बाजे एवं ढोल-ढमाके नहीं बज पाए थे, जबकि 2,000 आबादी वाले इस गांव में लगभग 55 दलित परिवार निवास करते हैं.
 

mamta wedding mp

चंदर मेघवाल की बेटी ममता का विवाह राजगढ़ के दिनेश के साथ तय हुआ था और 23 अप्रैल 2017 को वर पक्ष बारात लेकर माना आने वाला था. लेकिन गांव के दबंगों ने चंदर को चेतावनी दी कि गांव में बारात बिना बैंड बाजे के निकलनी चाहिए और ना ही किसी प्रकार की सजावट-रोशनी होनी चाहिए. चंदर ने प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई जिसके बाद निर्धारित समय पर ममता की बारात गांव में आई और बैंड बाजे के साथ बारात चंदर मेघवाल के घर पहुंची और धूमधाम से ममता का विवाह दिनेश के साथ संपन्न हुआ. इस दौरान तीन थानों के पुलिस बल पूरी मुस्तैदी के साथ वहां पर मौजूद रहे.

टिप्पणियां

शादी से पहले चंदर मेघवाल को दबंगों द्वारा चेतावनी दी गई थी कि अगर उसने 'नियमों' को तोड़ा तो उसके परिवार को कुएं से पानी नहीं भरने दिया जाएगा और न ही स्थानीय मंदिर में प्रवेश करने दिया जाएगा. मेघवाल ने कहा कि चूंकि उसकी बेटी की शादी धूमधाम से करने में बाकी दलित परिवारों ने भी खुलकर समर्थन दिया था, इसलिए पूरे दलित समुदाय को निशाना बनाया गया है. उसने कहा, हम सब पानी के लिए इसी कुएं पर आश्रित हैं...उन्होंने इसमें किरासन तेल डाल दिया.

कुएं का पानी खराब हो जाने के चलते दलित परिवारों की महिलाओं को पिछले छह दिनों से दो किलोमीटर दूर जाकर नदी से पानी लाना पड़ता है. हालांकि एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने आश्वासन दिया है कि दलित इलाके में दो हैंडपंप लगाए जाएंगे, लेकिन इसमें थोड़ा वक्त लगेगा.
 

kerosene in well

एक वरिष्ठ अधिकारी दुर्विजय सिंह ने कहा कि कुएं में किरासन तेल डालना 'कोई बहुत बड़ा मुद्दा' नहीं है, क्योंकि इस गांव में विभिन्न समुदाय के लोग काफी मेलजोल से रहते हैं. निश्चित रूप से किसी ने जानबूझकर ऐसी हरकत की है. जो भी इसके लिए जिम्मेदार है, उसकी पहचान जल्द सामने आ जाएगी.

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement