NDTV Khabar

बिहार चुनाव : अमित शाह, राहुल गांधी और लालू यादव को आयोग ने भेजा नोटिस

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार चुनाव : अमित शाह, राहुल गांधी और लालू यादव को आयोग ने भेजा नोटिस
नई दिल्ली: चुनाव आयोग ने देश के तीन बड़े नेताओं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव को बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान आपत्तिजनक टिप्पणियों के संबंध में नोटिस भेजे हैं।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को उनकी 'पाकिस्तान में पटाखे फूटेंगे' संबंधी कथित टिप्पणी के लिए रविवार रात चुनाव आयोग ने 'कारण बताओ' नोटिस जारी किया और कहा कि प्रथम दृष्टया उन्होंने बिहार में लागू आचार संहिता का उल्लंघन किया है।

शाह ने पूर्वी चंपारण जिले में भारत-नेपाल सीमा स्थित रक्सौल में एक चुनावी रैली में गुरुवार को कथित तौर पर कहा था कि अगर बीजेपी बिहार विधानसभा चुनाव हार जाती है तो पाकिस्तान में पटाखे फूटेंगे।' चुनाव आयोग द्वारा जारी नोटिस में कहा गया है 'प्रथम दृष्टया आयोग का विचार है कि इस तरह का बयान, जो सौहार्द बिगाड़ सकता है और सामाजिक एवं धार्मिक समुदायों के बीच वर्तमान में मौजूद मतभेदों को गहरा कर सकता है... देकर आपने आदर्श आचार संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन किया है।'

चुनाव आयोग ने कहा कि आदर्श आचार संहिता के एक प्रावधान में कहा गया है कि किसी भी पार्टी या उम्मीदवार को ऐसी किसी गतिविधि में लिप्त नहीं होना चाहिए जिससे विभिन्न जातियों, समुदायों या धार्मिक एवं भाषायी समुदायों के बीच तनाव हो या परस्पर नफरत हो या वर्तमान मतभेद और गहरे हों।

शाह ने गुरुवार को रक्सौल में जो कुछ कथित तौर पर कहा, बताया जाता है कि वही उन्होंने गुरुवार को ही पश्चिमी चंपारण जिले के बेतिया में एक अन्य रैली में दोहराया।

चुनाव आयोग में शाह के भाषण को उद्धृत करते हुए कहा गया है 'दोस्तों, याद रहे कि अगर गलती से बीजेपी यहां हार जाती है और नीतीश-लालू जीत जाते हैं तो परिणाम की घोषणा पटना में होगी, लेकिन पटाखे पाकिस्तान में फूटेंगे।' आयोग ने शाह को अपना पक्ष रखने के लिए चार नवंबर को दोपहर तीन बजे तक का समय दिया है और ऐसा न करने पर चुनाव आयोग उनके किसी जवाब के बिना फैसला करेगा।

राहुल और लालू को भी 'कारण बताओ' नोटिस

चुनाव आयोग ने 'बीजेपी हिंदू-मुसलमान को एक-दूसरे से लड़वाती है' टिप्पणी के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी को भी 'कारण बताओ' नोटिस जारी करते हुए कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष ने बिहार विधानसभा चुनावों के लिए लागू आदर्श आचार संहिता का प्रथम दृष्टया उल्लंघन किया।

साथ ही आयोग ने आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद को उनकी उस टिप्पणी के लिए 'कारण बताओ' नोटिस जारी किया जिसमें लालू ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को 'नरभक्षी' और 'पागल आदमी' कहा था। आयोग ने लालू की उस कथित टिप्पणी का भी उल्लेख किया जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'पिशाच' कहा था।

लालू को नोटिस जारी करते हुए आयोग ने कहा कि आरजेडी प्रमुख ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है। उन्हें जवाब देने के लिए चार नवंबर दोपहर तीन बजे तक का समय देते हुए आयोग ने कहा कि ऐसा न होने पर वह कार्रवाई करेगा।

जेडीयू प्रमुख शरद यादव को किया आगाह
आयोग ने जेडीयू प्रमुख शरद यादव को ईश्वरीय प्रसन्नता के नाम पर मतदाताओं को प्रभावित करने वाली उनकी कथित टिप्पणी के लिए आगाह किया और कहा कि उन्हें आदर्श आचार संहिता का पालन करना चाहिए, क्योंकि वह एक वरिष्ठ नेता हैं।

अपने आदेश में आयोग ने यादव की यह दलील खारिज कर दी कि बयान एक 'भावनात्मक अपील' के तहत दिया गया था। राहुल गांधी को जवाब के लिए चार नवंबर दोपहर तीन बजे तक का समय देते हुए आयोग ने कहा कि ऐसा न होने पर वह उनके किसी जवाब के बिना कार्रवाई करेगा।

मधुबनी जिले के बेनीपट्टी में 29 अक्टूबर को राहुल द्वारा दिए गए चुनावी भाषण को उद्धृत करते हुए आयोग ने कहा कि राहुल ने कहा था 'उनका बी प्लान क्या है ..भारतीय को दूसरे भारतीय से लड़वाना। वे जहां कहीं भी जाते हैं.. उप्र, महाराष्ट्र, हरियाणा.. जहां भी चुनाव हो रहा है उनके कार्यकर्ता जाते हैं और वह हिंदुओं को मुस्लिमों से लड़वाते है।'

आयोग ने राहुल को याद दिलाया कि आदर्श आचार संहिता में दूसरे दलों या उनके कार्यकर्ताओं की अपुष्ट आरोपों को लेकर आलोचना करने का प्रावधान नहीं है।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement