Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अमित शाह ने कुछ इस तरह रची बिहार चुनाव की रणनीति

अमित शाह ने कुछ इस तरह रची बिहार चुनाव की रणनीति

फाइल फोटो

पटना:

बिहार विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का चेहरा बेशक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थे, लेकिन परदे के पीछे जलवा था पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के आईटी सेल का। इन्होंने पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर छोटी से छोटी बात को भी व्यवस्थित किया। जीतने पर कार्यकर्ताओं को रुपये-पैसे से लेकर गाय तक इनाम में देने का वादा किया गया।

बीजेपी के 'वार रूम' जुड़े रहे कार्यकर्ता
साल 2014 के आम चुनाव में मोदी के चुनावी गुरु प्रशांत किशोर थे। इस चुनाव में उन्होंने नीतीश कुमार का दामन थाम लिया था। इस स्थिति में पीएमओ के आईटी सेल को पटना में बीजेपी के 'वार रूम' में बनने वाली रणनीति का हिस्सा बनाया गया। आईटी टीम को ऑडियो कांफ्रेंस के जरिये प्रदेश के कार्यकर्ताओं से जुड़ने के लिए कहा गया। कार्यकर्ताओं से कहा गया कि वे बेहिचक अपनी बात रखें।

'वार रूम' के सदस्य रहे एक बीजेपी नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया, 'एक समय में अलग-अलग इलाकों के 8-10 कार्यकर्ता जुड़ते थे। उन्हें बताया जाता था कि बीजेपी के लिए यह चुनाव क्यों महत्वपूर्ण है। इससे उनसे एक भावनात्मक संबंध बन जाता था। कार्यकर्ता कोई भी सवाल पूछ सकते थे।'

'वार रूम' का प्रबंधन पार्टी के वरिष्ठ नेता अनंत कुमार, धर्मेद्र प्रधान, भूपेंद्र यादव और अनिल जैन संभाले हुए थे। ये सभी अपनी रिपोर्ट अध्यक्ष अमित शाह को देते थे और शाह उसे प्रधानमंत्री मोदी तक पहुंचाते थे।

बीजेपी को अनिवासी बिहारियों का कुछ यूं मिला साथ
अमेरिका में अनिवासी बिहारियों का एक प्रकोष्ठ युवा मतदाताओं को बीजेपी के पक्ष में मतदान के लिए समझाता था। इस प्रकोष्ठ को गांवों के संभ्रांत लोगों के फोन नंबर दिए गए थे। बिहार के इन अनिवासियों ने अमेरिका में बिहार सोसाइटी नामक संस्था बनाई थी। इसके सदस्यों ने अमेरिका यात्रा के दौरान मोदी से मुलाकात की थी।

इन्होंने व्हाट्सएप पर इंडिया फॉर डेवलप्ड बिहार नाम से ग्रुप बनाया था। ये फोन से लोगों से बात करते थे। बिहार के युवाओं से कहते थे, 'हमें बिहार क्यों छोड़ना पड़ा? गुजराती अनिवासियों को देखें। उन्होंने अपने राज्य में निवेश किया, क्योंकि वहां आधारभूत ढांचा और निवेश के लायक माहौल था। यह बिहार में तभी संभव है, जब यहां बीजेपी की सरकार बनेगी।'

छोटी-छोटी बातों का रखा ख्याल
अमित शाह-नरेंद्र मोदी की जोड़ी ने जमीनी स्तर पर छोटी से छोटी बातों का ख्याल रखा। जुलाई महीने में ही गुजरात के एक सांसद को बिहार के ऐसे 10 जिलों में चुनावी काम की जिम्मेदारी दी गई, जहां बीजेपी बहुत मजबूत नहीं है। सांसद ने नीतीश कुमार के गृहजनपद नालंदा से शुरुआत की। वह एक के बाद दूसरे इलाके में जाते रहे और कार्यकर्ताओं में जोश भरते रहे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा, 'आपका पहला लक्ष्य बूथ स्तर पर वोट प्रतिशत बढ़ाना होगा। अगर यह पांच फीसदी बढ़ गया और बीजेपी एक मत से भी जीती तो आपको इनाम मिलेगा।'

इनाम में 50,000 रुपये तक की राशि या स्वयंसेवी संस्था द्वारा खरीदी गई गाय देने का वादा किया गया। बीजेपी के एक नेता कहते हैं, 'अगर हम जीतेंगे तो इसकी वजह केंद्र सरकार का काम नहीं, बल्कि मोदी-शाह जोड़ी का सूक्ष्म से सूक्ष्म स्तर पर किया गया प्रबंधन होगा... ये बात पूरी तरह से ऑफ द रिकार्ड है।'