स्टिंग आपरेशन : बिहार के कुर्था में जदयू के विधायक बतौर रिश्वत दो लाख रुपये लेते हुए दिखे

स्टिंग आपरेशन : बिहार के कुर्था में जदयू के विधायक बतौर रिश्वत दो लाख रुपये लेते हुए दिखे

स्टिंग ऑपरेशन करके बनाए गए वीडियो में रिश्वत की राशि गिनते हुए विधायक सत्यदेव सिंह।

पटना:

बिहार के पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद कुशवाहा के बाद रविवार को एक अन्य स्टिंग आपरेशन में जदयू के कुर्था से निवर्तमान विधायक सत्यदेव सिंह को एक व्यक्ति से दो लाख रुपये रिश्वत के तौर पर लेते हुए दिखाया गया।

सोशल मीडिया पर वायरल
सोशल मीडिया पर जारी उक्त स्टिंग आपरेशन में सत्यदेव सिंह को पटना में विधायक क्वार्टर की छत पर एक अज्ञात व्यवसायिक प्रतिष्ठान के मालिक से जदयू के सत्ता में आने पर उन्हें मदद करने के एवज में दो लाख रुपये रिश्वत के तौर पर लेते हुए दिखाया गया है। वीडियो में सत्यदेव को उक्त व्यवसायी से पांच लाख रुपये की मांग करते हुए दिखाया गया है। जहानाबाद के कुर्था विधानसभा क्षेत्र में बिहार विधानसभा के दूसरे चरण में मतदान गत 16 अक्तूबर को संपन्न हो चुका है।

पार्टी जानकारी जुटाकर जांच करेगी
वीडियो को लेकर प्रतिक्रिया देने के लिए सत्यदेव हालांकि उपलब्ध नहीं हो सके, पर जदयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने फोन पर बताया कि इस मामले में जानकारी इकट्ठी की जा रही है और उसकी जांच होगी। त्यागी ने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में उनकी पार्टी की ‘जीरो टालेरेंस’ की नीति है। पूर्व में एक स्टिंग आपरेशन के दौरान मंत्री को पैसा लेते हुए दिखाए जाने पर उन्हें पद से हटा दिया गया था।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पूर्व मंत्री कुशवाहा का पद के साथ टिकट भी छिना
बिहार के पूर्व मंत्री अवधेश प्रसाद कुशवाहा के सोशल मीडिया पर एक स्टिंग आपरेशन के दौरान मुंबई के एक व्यवसायी को मदद करने के एवज में 4 लाख रुपये रिश्वत लेते हुए दिखाए जाने पर उन्हें मंत्री पद से हटाए जाने के साथ गत 13 अक्तूबर को पूर्वी चंपारण जिले के पिपरा विधानसभा क्षेत्र से उनकी जगह जदयू ने पुराने समता पार्टी नेता कृष्णचंद्र सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया।

अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी आर लक्ष्मणन ने कहा कि पटना के जिलाधिकारी मामले की जांच करेंगे और रिपोर्ट के आधार पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विकास वैभव ने कहा कि उन्हें इस संबंध में कोई शिकायत प्राप्त नहीं हुई है। शिकायत प्राप्त होने पर मामले की जांच की जाएगी।