NDTV Khabar

दीवाली के बाद तेजस्वी यादव बिहार की राजनीति में फिर होंगे सक्रिय

सृजन के माध्यम से तेजस्वी ने गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर एक के बाद एक ताबड़तोड़ कई आरोप लगाए.

1430 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
दीवाली के बाद तेजस्वी यादव बिहार की राजनीति में फिर होंगे सक्रिय

तेजस्‍वी यादव (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में राजद समर्थकों के लिए खुशखबरी है. लगता है दीपावली के बाद विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव राज्य की राजनीति में सक्रिय होंगे. इस बात की संभावना उस समय बनती दिखी, जब पिछले एक महीने से अधिक से दिल्ली से ट्विटर के माध्यम से अपनी राजनीति कर रहे तेजस्वी ने घोषणा की कि दीवाली के बाद सृजन के चोरों का दिवाला निकलेगा और नारा होगा 'सृजन चोरों, गद्दी छोड़ो.'

सृजन के माध्यम से तेजस्वी ने गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर एक के बाद एक ताबड़तोड़ कई आरोप लगाए. युवा राजद ने गुरुवार को सृजन घोटाले के मुद्दे पर एक राजभवन मार्च आयोजित किया था जिसपर पुलिस द्वारा लाठी चार्ज किया गया. इसमें राजद के कई कार्यकर्ताओं को काफी चोट आयी. इसके बाद तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को पहले तानाशाह कहा और आरोप लगाया कि सृजन घोटाले में अपनी भागीदारी के कारण वह अब भड़क रहे हैं लेकिन हम पुलिस की करवाई से डरने वाले नहीं हैं.

गुरुवार को को राम मनोहर लोहिया की भी पुण्यतिथि थी. तेजस्वी ने इससे लाठीचार्ज को जोड़ते हुए कहा कि लोहियाजी की पुण्यतिथि पर लाठीचार्ज करा कर कार्यकर्ताओं को लहूलुहान कर दिया गया. इसलिए नीतीश कुमार समाजवाद के नाम पर कलंक हैं. पूरे घटनाक्रम को सरकारी गुंडागर्दी की संज्ञा देते हुए तेजस्वी ने आरोप लगाया कि राज्यपाल के नाम ज्ञापन में नीतीश कुमार और सुशिल मोदी को अभियुक्त बनाने की मांग की गयी थी इसलिए राजभवन के किसी अधिकारी ने न मिलना और ना ही उनका ज्ञापन लेना उचित समझा जबकि प्रतिनिधिमंडल को तीन बजे का समय दिया गया था.

VIDEO: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तेजस्‍वी का तीखा हमला

वहीं पुलिस का कहना कि लाठीचार्ज चूंकि राजद कार्यकर्ता पुलिस से हाथापाई पर उतर गए थे और पत्‍थरबाजी शुरू कर दिया था, इसलिए लाठीचार्ज करना पड़ा. वहीं राजभवन के सूत्रों का कहना है कि निर्धारित समय पर कोई भी राजद का नेता राजभवन नहीं आया.  लेकिन निश्चित रूप से राजद की कोशिश है कि भले सीबीआई जांच चल रही हो लेकिन सृजन घोटाले के मुद्दे को बनाए रखा जाये.  पार्टी के नेता मानते हैं कि इस विषय पर ऐसे भी पार्टी बीजेपी जैसे विपक्ष में आक्रामक रहती थी वैसा तेवर दिखने में कामयाब नहीं रही है. इसका एक बड़ा कारण ये रहा है कि राजद अध्‍यक्ष लालू यादव और तेजस्वी यादव दोनों अपने खिलाफ मामलों में पूछताछ के कारण  दिल्ली में कैंप कर रहे हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement