NDTV Khabar

एनडीए की डिनर पार्टी के बाद सुशील मोदी के 'इफ्तार' में भी नहीं शामिल हुए उपेंद्र कुशवाहा

डिनर पार्टी के बाद उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की ओर से आयोजित इफ्तार पार्टी में रालोसपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के शामिल न होने से एक बार फिर से बिहार की सियासत में कायासों का दौर शुरू हो गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एनडीए की डिनर पार्टी के बाद सुशील मोदी के 'इफ्तार' में भी नहीं शामिल हुए उपेंद्र कुशवाहा

उपेंद्र कुशवाहा (फाइल फोटो)

पटना: डिनर पार्टी के बाद उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की ओर से आयोजित इफ्तार पार्टी में रालोसपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के शामिल न होने से एक बार फिर से बिहार की सियासत में कायासों का दौर शुरू हो गया है. दरअसल, शुक्रवार को बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की ओर से पटना में इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया था, जिसमें न तो नीतीश कुमार शामिल हुए और न ही उपेंद्र कुशवाहा. बताया जा रहा है कि दावत-ए-इतार का आयोजन उपमुख्यमंत्री, सत्तारूढ़ दल के उपमुख्य सचेतक अरुण कुमार सिन्हा व पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन की ओर से किया गया था. 

बिहार एनडीए में मची खींचतान के पीछे ये है गुणा-गणित, यहां हर कोई है 'बड़ा भाई'

बता दें कि गुरुवार को बीजेपी की ओर से आयोजित एनडीए डिनर पार्टी में भी उपेंद्र कुशवाहा शामिल नहीं हो पाए थे, जिसे उन्होंने व्यक्तिगत कारणों का हवाला दिया था. हालांकि, अगले दिन पटना पहुंचते ही उन्होंने पत्रकारों से कहा कि एनडीए एक है और आगे भी रहेगा. मगर कायास लगाए जा रहे हैं कि उपेंद्र कुशवाहा और उनकी पार्टी रालोसपा एनडीए में खुश नहीं है. रालोसपा चाहती है कि कुशवाहा को एनडीए का नेता बनाया जाए. मगर शुक्रवार को इफ्तार पार्टी में कुशवाहा के शामिल न होने से अफवाहों और कायासों का बाजार और भी गर्म हो गया है. 

तेजस्वी यादव ने दिया उपेंद्र कुशवाहा को न्योता, कहा- एनडीए में आपकी कोई जगह नहीं

वहीं, बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने पटना में शुक्रवार को कहा कि बिहार और देश में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार 'सबका साथ, सबका विकास' मंत्र के साथ काम कर रही है. उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि हिंदू-मुस्लिम व अन्य सभी धर्म-संप्रदायों के लोग आपस में मिलजुल कर रहें और राज्य व देश के विकास में अपना योगदान दें. पटना के अंजुमन इस्लामिया हॉल में आयोजित दावत-ए-इतार के मौके पर रोजेदारों को बधाई देते हुए उपमुख्यमंत्री मोदी ने कहा कि सरकार अल्पसंख्यकों के साथ सभी समुदाय के लोगों के कल्याण के लिए काम कर रही है. 

राजनीतिक उथल-पुथल पर लगा विराम, उपेंद्र कुशवाहा बोले- एनडीए एकजुट है और रहेगा

टिप्पणियां
इस मौके पर मोदी ने संवाददाताओं को बताया कि राज्य की राजग सरकार ने मदरसा बोर्ड से फोकानिया व मौलवी की परीक्षा में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण होने वाले छात्र-छात्राओं को 10 हजार रुपये का वजीफा देने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि पहले केवल 10वीं (मैट्रिक) से प्रथम श्रेणी में पास करने वाले छात्र-छात्राओं को ही दिया जाता था. 

VIDEO: बिहार एनडीए में सब ठीक नहीं, कुशवाहा की पार्टी के बगावती सुर


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement