NDTV Khabar

क्या पीएम मोदी के साथ मंच साझा करना चाहते हैं 'नाराज' शत्रुघ्न सिन्हा... किया यह ट्वीट

बिहारी बाबू की नाराजगी का एक दूसरा कारण है. शनिवार को ही एक और सरकारी कार्यक्रम जो राजधानी पटना से 100 किलोमीटर दूर मोकामा में आयोजित किया गया है, इस कार्यक्रम को NHAI ने आयोजित किया है

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्या पीएम मोदी के साथ मंच साझा करना चाहते हैं 'नाराज' शत्रुघ्न सिन्हा... किया यह ट्वीट

शत्रुघ्न सिन्हा और पीएम मोदी.

खास बातें

  1. शत्रुघ्न सिन्हा बीजेपी के वरिष्ठ नेता हैं.
  2. बीजेपी से नाराज चल रहे हैं.
  3. अपने बयानों से पार्टी को नाराज करते रहे हैं.
पटना: बिहारी बाबू और पटना साहेब से सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने क्षेत्र और अपने कॉलेज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया है. बृहस्पतिवार सुबह सिन्हा ने प्रधानमंत्री के स्वागत में कई सारे ट्वीट किए.
 
 

लेकिन बिहारी बाबू ने एनडीटीवी खबर को बताया कि इस कार्यक्रम में वो मौजूद नहीं रहेंगे  क्योंकि अभी तक न उन्हें, न पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा और ना  ही  राजद अध्यक्ष लालू यादव को निमंत्रण दिया गया है. सिन्हा ने कहा कि शनिवार को पटना आने के लिए प्रधानमंत्री का स्वागत हैं. उन्हें मेरा प्रणाम और धन्यवाद लेकिन जब आयोजकों का अभी तक ये रुख है कि "मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है" तब बिना बुलाये मेहमान बनने से क्या फायदा.

इससे पूर्व यशवंत सिन्हा ने बुधवार को पटना दौरे के दौरान इस बात की पुष्टि की थी कि अभी तक न आयोजकों का फ़ोन और न ही कोई आमंत्रण उन्हें मिला है.  शत्रुघ्न सिन्हा पटना साइंस कॉलेज में पढ़े हैं जहाँ इस पटना विश्विद्यालय के शताब्दी दिवस समारोह का आयोजन किया गया है.

यह भी पढ़ें : पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में पीएम मोदी संग मंच पर नहीं बैठ पाएंगे 'बिहारी बाबू'

वहीं, पटना विश्विद्यालय के कुलपति प्रो. रासबिहारी सिंह का कहना है कि सबको आमंत्रित किया जायेगा लेकिन कार्ड अभी प्रिंटिंग के लिए गया है. हालाँकि उन्होंने इस बात पर साफ़ तौर पर असमर्थता जताई कि मंच पर इन लोगों को वो बिठा सकते हैं. उनका कहना है कि ये सभी मेरे सम्मानित अतिथि हैं और इनके लिए वीवीआईपी के जहां बैठने की व्यवस्था की गई हैं वहां निश्चित रूप से सीटें रहेंगी. सिंह इस बात से परेशान हैं कि इस विश्विद्यालय से पढ़ाई करने वाली हर बड़ी हस्ती चाहे वो किसी भी क्षेत्र में हो, मंच पर प्रधानमंत्री के साथ बैठना चाहता हैं.  जबकि इसका फैसला खुद प्रधानमंत्री कार्यालय के द्वारा किया जाता है.  

यह भी पढ़ें : यशवंत सिन्हा के बवाल के बीच शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम नरेंद्र मोदी को भेजा यह संदेश

लेकिन बिहारी बाबू की नाराजगी का एक दूसरा कारण है. शनिवार को ही एक और सरकारी कार्यक्रम जो राजधानी पटना से 100 किलोमीटर दूर मोकामा में आयोजित किया गया है, इस कार्यक्रम को NHAI ने आयोजित किया है. जहाँ कई ब्रिज और सड़क का निर्माण कार्य का शुभारम्भ किया जायेगा. लेकिन यहाँ भी अखबारों में छपे विज्ञापन में यहा तक कि पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी का नाम है, लेकिन सिन्हा को बुलाया तक नहीं गया है. जबकि कुछ सड़कें उनके पटना साहेब संसदीय क्षेत्र का भी हिस्सा हैं.  निश्चित रूप से सिन्हा को बुलाया जा सकता था लेकिन दिक्कत ये है कि बीजेपी की बिहार इकाई उनके उपस्थिति से असहज हो जाती है. पार्टी उनके बयानों से नाराज है और इसकी सजा में सार्वजनिक कार्यक्रमों से उनका नाम निमंत्रण की सूची से गायब कर देती है.

हालांकि बिहार बीजेपी के नेता कहते हैं कि इन सभी कार्य्रक्रम से उन लोगों का कोई लेना-देना नहीं सब कुछ प्रधानमंत्री कार्यालय तय करता है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement