NDTV Khabar

'बंधन तोड़' एप ने बिहार के नाबालिग लड़की को बाल विवाह से बचाया

संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किए गए मोबाइल एप्प ने लड़की को बाल विवाह का शिकार होने से बचा लिया.

95 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'बंधन तोड़' एप ने बिहार के नाबालिग लड़की को बाल विवाह से बचाया

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. 'बंधन तोड़' एप ने बिहार के नाबालिग लड़की को बाल विवाह से बचाया
  2. जेंडर अलायंस ने 'बंधन तोड़' नाम से एक एड्रॉयड मोबाइल एप शुरू किया है
  3. लोगों को जागरूक करता है यह एप
पटना: बिहार में एक लड़की का बाल विवाह हो रहा था और इससे बचने का कोई आशा और उपाय न देखकर उसने संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किए गए मोबाइल एप को संदेश भेजा और उसने लड़की को बाल विवाह का शिकार होने से बचा लिया. यूनाइटेड नेशन्स पॉपुलेशन फंड (यूएनएफपीए) ने जेंडर अलायंस नाम की एक पहल की है. पटना स्थित जेंडर अलायंस ने सितंबर महीने में राज्य में 'बंधन तोड़' नाम से एक एड्रॉयड मोबाइल एप शुरू किया है. यह एप्प दहेज, बाल विवाह, घरेलू हिंसा और लैंगिक असामनता के मुद्दों पर लोगों को जागरूक करता है.
 
यह भी पढ़ें: नाबालिग पत्नी से बनाया शारीरिक संबंध तो वह होगा रेप, सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 10 बातें

जेंडर अलायंस की एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया, ' अपने सामाजिक सहयोगियों के द्वारा इस शिकायत की पुष्टि किए जाने के बाद हमने तत्काल पटना में डीजीपी से संपर्क किया. इसके बाद डीजीपी ने स्थानीय पुलिस अधिकारियों को इसके बारे में सूचना दी. अधिकारी ने कहा, 'संयोगवश लड़का भी नाबालिग (15) था. इसलिए अगर यह एप्प नहीं होता तो दो किशोर बाल विवाह के शिकार हो सकते थे.' 

VIDEO: नाबालिग पत्नी से शारीरिक संबंध बनाना अब रेप माना जाएगा
उन्होंने कहा, 'यह एप् हिंदी में है क्योंकि हम ग्रामीण इलाके के लोगों तक भी पहुंचना चाहते थे. वहां अब भी इस तरह की प्रथाएं अत्यधिक संख्या में प्रचलित है. एप में एसओएस बटना है, जिससे पीड़ित सीधे हमसे संपर्क कर सकते हैं.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement