NDTV Khabar

नीतीश कुमार ने नहीं सुनी तेजस्वी यादव की फरियाद, खाली करना होगा बंगला

बिहार के भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हज़ारी का कहना है कि तेजस्वी को अपना बंगला ख़ाली करना पड़ेगा.

246 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नीतीश कुमार ने नहीं सुनी तेजस्वी यादव की फरियाद, खाली करना होगा बंगला

लालू यादव का कहना है कि तेजस्वी को बंगले का कोई मोह नहीं है...

खास बातें

  1. बिहार सरकार ने तेजस्वी को बंगला खाली करने का नोटिस भेजा था
  2. तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र भी लिखा था
  3. राजद के नेता आरोप लगा रह है कि सब कुछ मुख्यमंत्री के इशारे पर हो रहा है
पटना: पूर्व उपमुख्यमंत्री और बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को अपना बंगला ख़ाली करना पड़ेगा. ये कहना है बिहार के भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हज़ारी का. इसके पहले बिहार सरकार ने उन्हें मुख्यमंत्री आवास से सटे बंगले को ख़ालीकर 1 पोलो रोड स्थित उस बंगले में जाने के लिए कहा था. तेजस्वी यादव ने पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा था. तेजस्वी ने राज्य के उप मुख्यमंत्री और भवन निर्माण मंत्री रहने के दौरान इस मकान के रखरखाव और इसकी साज-सज्जा पर काफी बड़ी रकम खर्च की थी. उन्हें शायद सरकार और खासकर यह मकान हाथ से जाने का अंदाजा नहीं था.

उसके बाद उन्होंने विभाग को याद दिलाया कि जब सुशील मोदी, अब्दुल बारी सिद्धिकी, नंदकिशोर यादव और प्रेम कुमार को उसी बंगले में रहने दिया गया जो उन्हें मंत्री के रूप में मिला था. तेजस्वी का तर्क था कि आख़िर उन्हें बंगले से बेदख़ल करने की जल्दबाज़ी क्यों दिखायी जा रही है?

यह भी पढ़ें: क्या लालू यादव ने अपनी गलतियों से तेजस्वी का राजनीतिक भविष्य चौपट कर दिया?

तेजस्वी ने अपने पत्र में इस बात पर भी सवाल उठाया था कि संविधान में उपमुख्यमंत्री के लिए कोई पद नहीं है, तब उस नाम से किसी बंगले को कैसे सुरक्षित किया जा सकता है. मंत्री हज़ारी का कहना है कि जब बंगले को सबसे वरिष्ठ मंत्री मतलब कैबिनेट में नंबर 2 के नाम से अब चिह्नित कर दिया गया है, इसलिए तेजस्वी यादव के आग्रह को माना नहीं जा सकता.

VIDEO: नीतीश कुमार की मर्ज़ी से मुख्यमंत्री नहीं बनेगा तेजस्वी: लालू

राजद के नेता आरोप लगाते हैं कि सब कुछ मुख्यमंत्री के इशारे पर हो रहा है. पार्टी के उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी का कहना है जिस तरह से इस मामले को तूल दिया जा रहा है वो सता के शीर्ष पर बैठे व्यक्ति की मानसिकता का परिचायक है. राजद के सूत्रों का कहना है कि तेजस्वी शायद ही नए घर में अब विरोधस्वरूप जाएं. इस बीच लालू यादव ने कहा कि तेजस्वी को बंगले का कोई मोह नहीं है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement