NDTV Khabar

बिहार : मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में 29 बच्चियों से रेप की पुष्टि, एक बच्ची की हत्या कर गाड़ने का भी आरोप

पीएमसीएच ने मुजफ्फरपुर के शेल्टर होम की 29 बच्चियों के साथ रेप की पुष्टि कर दी है. यहां रहने वाली बच्चियों ने अपने एक साथी की हत्या होने का भी आरोप लगाया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार : मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में 29 बच्चियों से रेप की पुष्टि, एक बच्ची की हत्या कर गाड़ने का भी आरोप

रेप की पुष्टि के बाद बालिका गृह की गहन जांच शुरू हो गई है. फॉरेंसिक टीम आज यहां खुदाई के लिए भी पहुंच रही है.

खास बातें

  1. मुजफ्फरपुर के बालिका गृह की गहन जांच शुरू हो गई है
  2. फॉरेंसिक टीम आज यहां खुदाई के लिए भी पहुंच रही है
  3. बच्चियों को दूसरे शेल्टर होम में शिफ्ट कर दिया गया है
मुजफ्फरपुर, बिहार:

बिहार के मुजफ्फरपुर जिला बालिका गृह में बच्चियों के साथ  होने वाले घिनौने अपराध की कहानी का ख़ुलासा अब धीरे-घीरे होने लगा है. इस मामले में पीएमसीएच ने शेल्टर होम की 29 बच्चियों के साथ रेप की पुष्टि कर दी है. ख़ास बात ये है कि यहां रहने वाली बच्चियों ने अपने एक साथी की हत्या होने का भी आरोप लगाया है.

खुलासे के बाद इस बालिका गृह की गहन जांच शुरू हो गई है. फॉरेंसिक टीम आज यहां खुदाई के लिए भी पहुंच रही है. फिलहाल यहां रहने  वाली सभी बच्चियों को दूसरे शेल्टर होम में शिफ्ट कर दिया गया है. पुलिस के मुताबिक इस मामले में पिछले दिनों जिला प्रशासन के एक अधिकारी को भी गिरफ्तार किया गया था. दूसरी तरफ, इस पूरे मामले को लेकर आरजेडी के कार्यकारी प्रमुख तेजस्वी यादव ने सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार शेल्टर होम में बच्चियों की सुरक्षा करने में नाकाम रही है.

यह भी पढ़ें : बिहार : आश्रय गृह में चल रहा था सेक्स रैकेट, 46 नाबालिग लड़कियां मुक्त कराईं


टिप्पणियां

तेजस्वी यादव ने कहा कि शेल्टर होम में 40 बच्चियों के साथ नेताओं व अधिकारियों द्वारा रेप के मामले की जानकारी बिहार सरकार के पास मार्च से ही है. कई बच्चियों का गर्भपात कराया गया, लेकिन इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई और मामले को ढंकने का प्रयास किया जा रहा है. आपको बता दें कि मेडिकल जांच में 16 बच्चियों से रेप की पुष्टि के बाद पिछले महीने पुलिस ने कई आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था. अब तक इस मामले में गिरफ्तार लोगों की संख्या 10 पहुंच गई है. यह मामला प्रकाश में आया था जब टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस ने बच्चियों से बातचीत के आधार पर रिपोर्ट तैयार की थी.  इसके बाद बिहार सोशल वेलफेयर डिपार्टमेंट ने FIR दर्ज कराया था. पुलिस अधिकारियों के मुताबिक मामले में अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है. साथ ही मामले की जांच के लिए भी एसआईटी का भी गठन किया गया है. 

यह भी पढ़ें : मुजफ्फरपुर के निलंबित SSP विवेक कुमार के घर छापेमारी जारी, लॉकर से 1 करोड़ 40 लाख रुपये बरामद   
 

VIDEO : सेक्स रैकेट का सरगना पकड़ा गया



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement