बिहार चुनाव से पहले NDA में खींचतान, चिराग पासवान के बयान पर JDU बोली- नीतीश ही विश्वसनीय चेहरा

क्या पासवान पिछले 15 सालों से बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में कमान संभाल रहे नीतीश कुमार की जगह किसी और को देखना चाहेंगे, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह भाजपा के हर फैसले के साथ हैं.

बिहार चुनाव से पहले NDA में खींचतान, चिराग पासवान के बयान पर JDU बोली- नीतीश ही विश्वसनीय चेहरा

चिराग पासवान की टिप्पणी दुर्भाग्यपूर्ण: जदयू

पटना:

बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले राजग के घटक दलों के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है. चिराग पासवान की टिप्पणी के बाद अब जेडीयू ने उन्हें जवाब दिया है. बिहार में सत्तारूढ़ जदयू ने शनिवार को अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर लोजपा (LJP) प्रमुख चिराग पासवान (Chirag Paswan) द्वारा की गई परोक्ष टिप्पणी को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया. पीटीआई को दिए एक साक्षात्कार में, लोजपा के युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बिहार सरकार द्वारा लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान पैदा हुए प्रवासी संकट से निपटने के लिए किए गए उपायों को लेकर असंतोष व्यक्त किया था. 

क्या पासवान पिछले 15 सालों से बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में कमान संभाल रहे नीतीश कुमार की जगह किसी और को देखना चाहेंगे, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह भाजपा के हर फैसले के साथ हैं. 

जदयू के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि नीतीश कुमार ही "बिहार के 12 करोड़ लोगों के लिए विश्वसनीय चेहरा" हैं और राज्य में राजग (NDA) को उनके नेतृत्व के लिए पासवान के पिता तथा लोजपा के संस्थापक अध्यक्ष रामविलास पासवान से भी मंजूरी मिली थी. उन्होंने कहा, ‘‘लोगों के दिमाग में नीतीश कुमार की स्वीकार्यता को लेकर कोई भ्रम नहीं होना चाहिए. ना ही लोगों को ऐसे बयान देने चाहिए जिनसे संशय पैदा होता हो."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अमित शाह रविवार को एक वर्चुअल रैली के माध्यम से बिहार में चुनावी शंखनाद करेंगे. वहीं उनके सहयोगी जनता दल यूनाइटेड के भी अपने दूसरे चरण के चुनावी अभियान में खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी पार्टी के नेताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीधा संवाद करेंगे. बिहार में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं.

वीडियो: बिहार में एडीजी के पत्र को लेकर राजनीतिक विवाद