NDTV Khabar

बिहार में बीपीएलधारी बुजुर्ग को आया 3 करोड़ का आयकर नोटिस, नोटबंदी के बाद खाते हुए करोड़ों का लेन-देन

बिहार के वैशाली में एक बीपीएल कार्डधारी बुजुर्ग को इन्कम टैक्स ने 3 कड़ोर 37 लाख के लेन देन के मामले में नोटिस जारी किया है, नोटिस मिलने के बाद बुजुर्ग हैरान है कि उसने कभी किसी बैंक का मुंह तक नहीं देखा. ऐसे में करोड़ों का नोटिस आखिर आया कैसे?  

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में बीपीएलधारी बुजुर्ग को आया 3 करोड़ का आयकर नोटिस, नोटबंदी के बाद खाते हुए करोड़ों का लेन-देन

प्रतीकात्मक चित्र

पटना: बिहार में 70 साल के बुजुर्ग को 3 करोड़ का इनकम टैक्स का नोटिस आ गया है. नोटबंदी के बाद उनके खाते में 3 करोड़ 37 लाख का लेन-देन हुआ है. बीपीएलधारी बुजुर्ग का कहना है कि बैंक में कोई खाता  खोला ही नहीं है. बैंक ने बुजुर्ग के खाते की जानकारी देने से इनकार कर दिया है.  RTI से खाते के सम्बन्ध में जानकारी मांगने पर बैंक ने  किसान को कहा कि हम पर आरटीआई लागू नहीं होता है. हम जानकारी नहीं देंगे. 

जानकारी के अनुसार नोटबंदी के दौरान और बाद में फर्जी खातों से लेन-देन के मामलों का प्रकाश में आना अब भी जारी है. बिहार के वैशाली में एक बीपीएल कार्डधारी बुजुर्ग को इन्कम टैक्स ने 3 कड़ोर 37 लाख के लेन देन के मामले में नोटिस जारी किया है, नोटिस मिलने के बाद बुजुर्ग हैरान है कि उसने कभी किसी बैंक का मुंह तक नहीं देखा. ऐसे में करोड़ों का नोटिस आखिर आया कैसे?  

यह भी पढ़ें : नोटबंदी और जीएसटी जैसे फैसले देश के विकास में सहायक: नीतीश कुमार

बिहार के वैशाली जिले के गोरौल थाने के रहने वाले विश्वनाथ चौरसिया के घर बीते दिनों यह इन्कम टैक्स का नोटिस आया है. नोटिस में विश्वनाथ चौरसिया के एक्सिस बैंक खाते से करोड़ों के लेन देन को लेकर जबाब देने को कहा गया है. साथ ही रिटर्न दाखिल करने को कहा गया है.  70 साल के इस बीपीएल कार्डधारी बुजुर्ग से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने पूछा है कि किन श्रोतों से आपने बैंक खाते में 03 करोड़ 37 लाख की राशि का लेन देन किया है. 

इस पूरे मामले में विश्वनाथ चौरसिया का कहना है कि नोटिस के बाद जब रिटर्न भरने के लिए आया तो देख के हमको घबरारहट हुई. उनका कहना है कि वे बीपीएल से सम्बंधित हैं. न उनके पास, जगह है, न  जमीन और न ही बिजनेस का कोई स्रोत है. फिर भी रिटर्न भरने की बात कहां से आ गई. हम तो कभी बैंक नहीं गए और देखा भी नहीं कि बैंक कहां है. न हमने सिग्नेचर किया. फिर दुबारा बैंक से भी स्टाफ नोटिस लेकर आ गया. तो फिर हमने  RTI के अंतर्गत जवाब मांगा तो कहा कि हम बैंक है और हम RTI से बाहर हैं. हमें कोई जानकारी नहीं दी गई. उसके बाद हमने कोर्ट में बैंक के ऊपर केस किया है.  

टिप्पणियां
नोटिस इन्कमटेक्स  डिपार्टमेंट ने भेजा है जिसमे खाते में हुए लेन देन के बाबत रिटर्न भरने का निर्देश दिया गया है ......  

विश्वनाथ चौरसिया ने जब इनकम टैक्स आफिस पहुंच जानकारी ली तो उन्हें बताया गया कि हाजीपुर स्थित एक्सिस बैंक के खाता संख्या 913020006867107 उनके नाम पर है जिसमें बीते 2 सालों में करोड़ों का लेन-देन हुआ है. हैरत की बात यह है कि बैंक ने विश्वनाथ चौरसिया को खाते के सम्बन्ध में जानकारी देने से मना कर दिया. हैरान परेशान इस बुजुर्ग ने बैंक को कानूनी नोटिस भेज खाते की जानकारी मांगी है.
VIDEO: जब मोदी सरकार पर हमलावर हुए यशवंत

ये पहला मामला नहीं जहां हाजीपुर के एक्सिस बैंक में फर्जी खातों में लेन-देन का मामला सामने आया है. नोटबंदी के दौरान कई फर्जी खातों में लेन-देन का मामला सामने आया था लेकिन बैंक लगातार इस मामले में चुप्पी साधे रहा. बैंक के डिप्टी मैनेजर अमिनेश से पूछे जाने पर मामलों को छुपाते हुए मीडिया को ही नसीहत दी गई कि इस मामले को छोड़ हमें अन्य मामलों की खबर बनानी चाहिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement