NDTV Khabar

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य के साथ ही संपन्न हो गया आस्था का महापर्व छठ

छठ पर्व के चौथे और अंतिम दिन शुक्रवार बड़ी संख्या में व्रतधारी गंगा सहित विभिन्न नदियों के तट और जलाशयों के किनारे पहुंचे और उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर भगवान भास्कर की पूजा-अर्चना की तथा हवन किया.

60 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
उदीयमान सूर्य को अर्घ्य के साथ ही संपन्न हो गया आस्था का महापर्व छठ

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

पटना: लोक आस्था और सूर्य उपासना का पर्व छठ शुक्रवार की सुबह उदयमान सूर्य के अर्घ्य के साथ ही संपन्न हो गया. इस मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी सुबह-सुबह छठ पूजा में हिस्सा लेने पहुंचे और वहां पर उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया. आपको बता दें कि चार दिवसीय इस अनुष्ठान के चौथे दिन अर्घ्य के बाद व्रतधारियों ने अन्न-जल ग्रहण कर 'पारण' किया. छठ पर्व के चौथे और अंतिम दिन शुक्रवार बड़ी संख्या में व्रतधारी गंगा सहित विभिन्न नदियों के तट और जलाशयों के किनारे पहुंचे और उदयमान सूर्य को अर्घ्य देकर भगवान भास्कर की पूजा-अर्चना की तथा हवन किया.
 
नीतीश के खिलाफ याचिका : उच्चतम न्यायालय ने चार हफ्तों में चुनाव आयोग से जवाब मांगा

इसके बाद व्रतियों ने अपने घर आकर जल-अन्न ग्रहण कर 'पारण' किया और 36 घंटे का निर्जला उपवास समाप्त किया. छठ को लेकर चार दिनों तक पूरा बिहार भक्तिमय रहा.मुहल्लों से लेकर गंगा तटों तक यानी पूरे इलाके में छठ पूजा के पारंपरिक गीत गूंजते रहे. राजधानी पटना की सभी सड़कें दुल्हन की तरह सजाई गई.

वीडियो : छठ पर्व पर गानों की धूम
छठ को लेकर पटना से लेकर पूरे राज्य में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए थे. गंगा के तटों से लेकर जलाशयों के घाटों पर अभूतपूर्व सुरक्षा के इंतजाम देखे गए. पटना जिला प्रशासन की ओर से गंगा तट पर 101 घाटों पर तथा शहर में 45 तालाबों पर छठव्रतियों को भगवान भास्कर के अर्घ्य देने के इंतजाम किए गए थे. 

इनपुट आईएनएस से भी


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement