बिहार सरकार ने लगाई ई-सिगरेट पर पाबंदी, पीते हुए पकड़े जाने पर 3 साल की सजा, 5,000 रुपये जुर्माना

बिहार देश के उन राज्यों में शामिल हो गया हैं, जहां ई-सिगरेट पर पाबंदी लगा दी गयी है.

बिहार सरकार ने लगाई ई-सिगरेट पर पाबंदी, पीते हुए पकड़े जाने पर 3 साल की सजा, 5,000 रुपये जुर्माना

प्रतीकात्मक इमेज

खास बातें

  • बिहार सरकार ने लगाई ई-सिगरेट पर पाबंदी
  • पीते हुए पकड़े जाने पर 3 साल की सजा
  • पकड़े जाने पर 5000 रुपये का जुर्माना भी लग सकता है
पटना:

बिहार देश के उन राज्यों में शामिल हो गया हैं, जहां ई-सिगरेट पर पाबंदी लगा दी गयी है. इसका मतलब अगर आप ई-सिगरेट पीते पकड़े गये तो ना केवल एक से तीन साल की सज़ा, बल्कि पांच हज़ार का फाइन भी लग सकता है. बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार, इस फैसले से राज्य में निकोटीन के प्रयोग पर अंकुश लगेगा. खासकर ये कदम नयी पीढ़ी के लोगों का इसके प्रति आकर्षण को कम करेगा. सरकार मान कर चल रही है कि युवा वर्ग में ई-सिगरेट का चलन बढ़ा है, जो इनकी ऑनलाइन बिक्री से प्रमाणित होता है. 

यह भी पढ़ें: 'सुट्टा ब्रेक' के बदले कंपनी ने सिगरेट न पीने वाले कर्मचारियों को दिया ये अनोखा तोहफा

इसके अलावा राज्य सरकार ने वैसे निकोटीन युक्त पदार्थों को भी प्रतिबंधित कर दिया है, जो ड्रग कंट्रोलर जेनरल ऑफ इंडिया द्वारा अनुमोदित नहीं हैं. फिलहाल, राज्य के औषधि नियंत्रक ने अपने आदेश में कहा हैं कि ई-सिगरेट के माध्यम से निकोटीन के गलत इस्तेमाल के मद्देनज़र ये कदम उठाया जा रहा है.

VIDEO: फिट रहे इंडिया : जानें सिगरेट कैसे नुकसान पहुंचा सकती है आपको
राज्य सरकार के इस आदेश के बाद अब ना केवल बिक्री, बल्कि ऑनलाइन विज्ञापन पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है. अब सवाल यह है कि बिहार में इससे पूर्व शराब पर भी पाबंदी लगायी गयी, लेकिन पुलिस के नाकों तले पूरे राज्य में शराब को घर-घर तक पहुंचाया जा रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com