बिहार : क्या सीएम नीतीश कुमार ने कोरोना वायरस संकट पर समीक्षा बंद कर दी है?

नीतीश कुमार ने समीक्षा बैठक बंद कर दी है और स्वास्थ्य विभाग की ओर से अब सीमित जानकारी दी जा रही है

बिहार : क्या सीएम नीतीश कुमार ने कोरोना वायरस संकट पर समीक्षा बंद कर दी है?

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो).

पटना:

क्या बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पार्टी के कार्यक्रम में व्यस्तता के कारण कोविड 19 से बचाव के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा बैठक बंद कर दी हैं? नीतीश कुमार पिछले अस्सी दिनों से ये बैठकें नियमित रूप से कर रहे थे. लेकिन रविवार के बाद उनके सचिवालय से इस सम्बंध में बैठक के बारे में कोई प्रेस विज्ञप्ति जारी नहीं की गई है.

नीतीश कुमार ने रविवार से ही अपनी पार्टी की वर्चुअल बैठक का सिलसिला शुरू किया है जो शुक्रवार को ख़त्म होगा. हालांकि इन बैठकों में नीतीश कोरोना के बाद उससे निबटने के सरकार द्वारा उठाए गए सारे उपायों के बारे में जानकारी देते हैं. शाम की आखिरी बैठक में जो उस दिन का इस बीमारी से सम्बंधित ताज़ा आंकड़ा होता है उसे कोट करते हैं. हालांकि अधिकारियों द्वारा जो ताज़ा जानकारी होती है उसकी जानकारी नियमित रूप से दी जा रही है लेकिन नीतीश कुमार द्वारा चार दिन से इस विषय पर मौन धारण करना इस ओर संकेत देता है कि उनकी अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक को इन दिनों विराम दिया गया है.

लेकिन एक ओर नीतीश कुमार ने समीक्षा बैठक बंद की है वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी के अपने पुराने स्टाइल को बदलते हुए सूचना सीमित भी की जा रही है. जैसे अब ये जानकारी नहीं दी जाती कि आख़िर किस लैब में कितनी जांच हो रही हैं और राज्य में किन-किन जिलों में कौन सा लैब कार्यरत है. इसके अलावा संक्रमितों की संख्या, अन्य राज्य से आने वालों की जो सूची दी जाती थी उसे भी अब बंद कर दिया गया है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का मानना है कि ऐसा कुछ दबाव में किया गया है. बिहार में प्रति दस लाख जांच की संख्या देश में काफी कम है. माना जा रहा है कि नीतीश कुमार की हर दिन दस हजार जांच को कोई गंभीरता से नहीं लेता. वहीं विपक्ष के नेताओं का कहना है कि ऐसा नीतीश के इशारे पर हो रहा है क्योंकि वे विधानसभा चुनाव समय पर हों इसलिए बिहार में मामले को दबाने में लगे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com