बिहार : राजग ने नीतीश सरकार की ‘विफलताओं’ का रिपोर्ट कार्ड जारी किया

बिहार : राजग ने नीतीश सरकार की ‘विफलताओं’ का रिपोर्ट कार्ड जारी किया

बिहार के भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो).

खास बातें

  • सरकार पर कानून-व्यवस्था के मामले में विफल रहने का आरोप
  • सरकार पर कानून-व्यवस्था के मामले में विफल रहने का आरोप
  • जदयू-राजद-कांग्रेस सरकार कल अपना रिपोर्ट कार्ड जारी करेगी
पटना:

बिहार की नीतीश कुमार नीत महागठबंधन सरकार के एक साल पूरा होने के एक दिन पूर्व भाजपा नीत राजग ने नीतीश सरकार की ‘विफलताओं’ को लेकर आज एक रिपोर्ट कार्ड जारी किया और आरोप लगाया कि सरकार हर मोर्चे, विशेष रूप से कानून-व्यवस्था के मामले में विफल रही है.

भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में आज आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में राजग के अन्य घटक दलों के नेता भी मौजूद थे. लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (सेक्युलर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी और राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के साथ संवाददाता सम्मेलन में भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने ‘विफलताओं’ को लेकर ‘एक साल, बुरा हाल’ शीषर्क वाला रिपोर्ट कार्ड जारी किया.

महागठबंधन सरकार का रिपोर्ट कार्ड जारी करते हुए सुशील मोदी ने आरोप लगाया कि अपने पिछले एक साल के कार्यकाल के दौरान महागठबंधन सरकार गलत क्रियाकलापों के कारण चर्चा में बनी रही. यह आरोप लगाते हुए कि महागठबंधन सरकार के एक वर्ष में बिहार की स्थिति ‘बद से बदतर’ हुई है, उन्होंने कहा, ‘‘रिपोर्ट कार्ड एक साल पूरा होने से एक दिन पहले जारी किया जा रहा है, ताकि मुख्यमंत्री हमारे सवालों का जवाब दे सकें.’’ उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नीत प्रदेश की जदयू-राजद-कांग्रेस सरकार अपने कार्यकाल का एक वर्ष पूरा होने पर कल अपना रिपोर्ट कार्ड जारी करेगी.

राज्य सरकार के कामकाज की वार्षिक रिपोर्ट कार्ड जारी करने की परिपाटी 2005 में मुख्यमंत्री बने नीतीश ने 2006 में पहला कार्ड जारी कर की थी.
 
बिहार पुलिस विभाग के आंकड़ों को उद्धरित करते हुए भाजपा नेता सुशील मोदी ने दावा किया कि प्रदेश में फिरौती के लिए अपहरण इस वर्ष अप्रैल की तुलना में अगस्त में तीन गुना पहुंच गया है. इसी प्रकार से इस वर्ष अप्रैल महीने में बलात्कार के जहां 61 मामले सामने आए थे वह अगस्त महीने में बढ़कर 103 हो गए हैं. उन्होंने आरोप लगाया इस वर्ष अप्रैल महीने में हत्या के जहां 192 मामले प्रकाश में आए थे वह अगस्त महीने में बढ़कर 228 हो गए हैं जबकि दंगा के मामले में 809 से बढकर 1017 पहुंच गए हैं.

सुशील ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ‘सात निश्चय’ कार्यक्रम में कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा और उद्योग क्षेत्रों को शामिल नहीं किए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि अपनी सभाओं में हमेशा बिहारी होने का गर्व और हरेक की थाल में बिहार का एक व्यंजन होने की बात करने वाले नीतीश कुमार अब इसकी एक बार भी चर्चा नहीं करते.

उन्होंने मुख्यमंत्री के स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड को केंद्र की योजनाओं की ‘रिपैकेजिंग’ करार देते हुए पूछा कि 1.52 लाख करोड रूपये के कृषि रोड मैप, मिशन मानव विकास, महादलित विकास मिशन, विजन डाक्यूमेंट 2025 आदि का क्या हुआ.

लोजपा प्रमुख और केंद्रीय खाद्य एवं जनवितरण मंत्री रामविलास पासवान ने आरोप लगाया कि महागठबंधन के घटक दलों के बीच जारी शीत युद्ध के कारण विकास की बातें पिछले पायदान पर चली गई है.

उन्होंने महागठबंधन सरकार के दो-ढाई साल में गिर जाने की भविष्यवाणी करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को भूमिहीन दलित एवं महादलित परिवारों में से कितने को घर बनाने के लिए तीन डिस्मल जमीन मिली इसको लेकर श्वेत पत्र जारी करना चाहिए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने नीतीश सरकार के एक साल पूरे होने पर उसे शून्य से भी कम अंक देते हुए कहा कि अपने एक साल के कार्यकाल के दौरान इस सरकार ने कुछ भी नहीं किया.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)