CAA-NRC पर बयान के बाद क्या नीतीश कुमार से नाराज है भाजपा? BJP नेता ने कहा- नया गठबंधन बनाने से नहीं हिचकिचाएंगे

नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा था कि कहा कि नागरिकता कानून को लेकर बहस होनी चाहिए और बिहार में एनआरसी लागू होने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता.

CAA-NRC पर बयान के बाद क्या नीतीश कुमार से नाराज है भाजपा? BJP नेता ने कहा- नया गठबंधन बनाने से नहीं हिचकिचाएंगे

सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील मोदी.

पटना:

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को राज्य की विधानसभा में कहा था कि यहां पर कोई एनआरसी लागू नहीं होगी. इसके साथ ही उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून पर भी चर्चा करने की बात कही थी. हालांकि, नीतीश कुमार की पार्टी ने संसद में नागरिकता संशोधन बिल का समर्थन किया था. सोमवार को भाजपा नेता संजय पासवान का बयान आया है कि अगर जदयू के साथ हमारा गठबंधन नहीं चलता है तो हम नया गठबंधन बनाने में नहीं हिचकिचाएंगे. ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या बिहार में नीतीश कुमार से भारतीय जनता पार्टी नाराज है?

भारतीय जनता पार्टी के नेता संजय पासवान ने सोमवार को कहा कि अगर किन्हीं वजहों से बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन नहीं चलता है तो हम लोग नया गठबंधन बनाने में नहीं हिचकिचाएंगे. न्यूज एजेंसी एएनआई ने पासवान के हवाले से कहा, 'हमने कभी नहीं कहा कि बिहार राजद मुक्त होना चाहिए. बिहार में राजद की ताकत रहनी चाहिए, क्योंकि बिहार में यह अकेली विपक्षी पार्टी है, ना कि कांग्रेस और अन्य राजनीतिक दल. अगर हमारा गठबंधन काम नहीं करता है तो हम लोग नया गठबंधन बनाने में नहीं हिचकिचाएंगे. एनडीए के साथ और ज्यादा पार्टियों और दलों को आना चाहिए.'

तेजस्वी का बड़ा आरोप- JDU ने BJP के साथ की सौदेबाजी इसलिए किया CAA का समर्थन 

महाराष्ट्र में शिवसेना के कांग्रेस के साथ गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कहा, 'महाराष्ट्र में हमारे एक पुराने साथी शिवसेना ने हमारा साथ छोड़ दिया और कांग्रेस के साथ जाकर मिल गया. पहले लालू यादव भाजपा का विरोध करके सत्ता में थे. हम चाहते हैं कि हमारे पुराने साथी हमारे साथ रहें और अगर वह छोड़कर जाते भी हैं तो हमें नये पार्टनर चुनने की आजादी है.' बिहार विधानसभा चुनाव से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा, 'बिहार में कोई भी सरकार आए, लेकिन बनेगी भाजपा की मदद से ही. और सरकार भाजपा की ही रहेगा. यह पूरी तरह से स्पष्ट है.'

नागरिकता कानून और NRC-NPR पर आखिर नीतीश कुमार ने वही किया जो प्रशांत किशोर चाहते थे?

गौरतलब है कि नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा था कि कहा कि नागरिकता कानून को लेकर बहस होनी चाहिए और बिहार में एनआरसी लागू होने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता. नीतीश कुमार एनआरसी को लेकर पहले भी बयान दे चुके हैं. नीतीश कुमार की पार्टी ने संसद में नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन किया था. बता दें, जनता दल यूनाइटेड  के नेता प्रशांत किशोर के रविवार के ट्वीट किया था कि नीतीश कुमार न नागरिक क़ानून और न एनपीआर-एनआरसी लागू करेंगे. हालांकि बाद में नीतीश कुमार ने सीएए के मुद्दे पर कहा कि इससे राज्य सरकारों का कोई लेनादेना नहीं है जो भी करना है संसद को करना है और इस पर जो भी बोलना है 19 जनवरी के बाद बोलूंगा. वहीं एनपीआर पर बिहार के सीएम ने कहा कि एनपीआर पर और जानकारी मांगी है और एनआरसी लागू करने का कोई सवाल नहीं है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

CM नीतीश कुमार का बड़ा बयान, कहा- CAA पर चर्चा होनी चाहिए, बिहार में NRC का सवाल ही नहीं

VIDEO: CM नीतीश कुमार ने कहा- बिहार में NRC की 'नो एंट्री'