NDTV Khabar

बिहार: महागठबंधन में बढ़ी दरार, जदयू ने कहा '80 विधायक होने का घमंड न दिखाए राजद', तेजस्‍वी बोले- 'भूंजा खाओ, मस्‍त रहो'

राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी बिहार के उपमुख्यमंत्री हैं और सीबीआई ने उन्हें होटलों के लिए जमीन घोटाले की जांच में नामजद किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार: महागठबंधन में बढ़ी दरार, जदयू ने कहा '80 विधायक होने का घमंड न दिखाए राजद', तेजस्‍वी बोले- 'भूंजा खाओ, मस्‍त रहो'

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव का फाइल फोटो...

खास बातें

  1. सीबीआई ने तेजस्‍वी को होटलों के लिए जमीन घोटाले की जांच में नामजद किया है
  2. 2010 प्रदेश चुनावों में राजद 22 विधायकों पर आ गई थी- जदयू प्रवक्‍ता
  3. मीडिया के एक धड़े में खबर है कि तेजस्वी ने इस्तीफा देने का मन बना लिया है
पटना: बिहार में महागठबंधन सरकार के सदस्यों के बीच दरार बढ़ती दिख रही है. शुक्रवार को जदयू की तरफ से राजद को कह दिया गया कि वह अपने 80 विधायक होने का घमंड न दिखाए, बल्कि पार्टी के मंत्री तेजस्वी यादव के खिलाफ आरोपों पर तथ्यों के साथ स्पष्टीकरण दें. वहीं, राज्‍य के उप मुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव ने इसी बीच एक ट्वीट करते हुए मीडिया पर हमला बोला और मजाकिया लहजे में कहा कि 'भूंजा खाओ, मस्‍त रहो'.

राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी बिहार के उपमुख्यमंत्री हैं और सीबीआई ने उन्हें होटलों के लिए जमीन घोटाले की जांच में नामजद किया है.

प्रदेश जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा, '80 विधायकों का घमंड दिखाने वाली राजद को यह नहीं भूलना चाहिए कि वह 2010 प्रदेश चुनावों में 22 विधायकों पर आ गई थी और 2015 के चुनावों में गठबंधन के प्रमुख के रूप में नीतीश कुमार के विश्वसनीय चेहरे के कारण इस संख्या में बढोतरी हुई थी'. 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में, राजद के 80, जदयू के 71, कांग्रेस के 27 एवं भाजपा के 53 विधायक हैं.

तेजस्‍वी यादव के इस्‍तीफे के लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं : जदयू
क्या तेजस्वी यादव के खिलाफ कार्रवाई नहीं करके अपना पद बचा रहे हैं नीतीश : जीतन राम मांझी
तेजस्वी खुद को बेदाग साबित करें, नीतीश की छवि बिगड़ी तो गठबंधन का कोई अर्थ नहीं : जेडीयू
नेतृत्व में बदलाव से ही उबर सकती है कांग्रेस, नीतीश कुमार को अध्यक्ष बनाए : रामचंद्र गुहा

सिंह ने राजद की बिहार इकाई के प्रमुख राम चंद्र पूर्वे की 80 विधायकों वाली टिप्पणी पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'सीमाओं में रहिए और जल्द से जल्द (तेजस्वी के खिलाफ) आरोपों पर स्पष्टीकरण दीजिए'. जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने लालू और तेजस्वी के परोक्ष संदर्भ में कहा कि जिनके खिलाफ आरोप लगे हैं उन्हें 'विपक्ष को चुप कराने के लिए' अपनी संपत्ति के स्रोत बताने चाहिए.




उनके सहयोगी सुनील कुमार ने भी समान नजरिया पेश करते हुए स्पष्ट कहा कि पार्टी किसी भी सूरत में नीतीश कुमार की 'स्वच्छ छवि' से कोई समझौता नहीं करेगी. उन्होंने कहा कि जदयू प्रमुख और बिहार के मुख्यमंत्री 'स़िद्धांतों की राजनीति और भ्रष्टाचार को कतई बर्दाश्त नहीं करने के लिए' जाने जाते हैं.

इस बीच, मीडिया के एक धड़े में खबर है कि तेजस्वी ने इस्तीफा देने का मन बना लिया है और इस संबंध में घोषणा राजद प्रमुख लालू के कल रांची से लौटने के बाद हो सकती है. लालू चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में पेशी के लिए रांची गए हैं.

हालांकि उपमुख्यमंत्री ने एक ट्वीट में इन खबरों को बकवास बताया. उन्होंने ट्वीट कर कहा "उत्पाती सूत्रों" के नाम से मीडिया का एक वर्ग भाजपा का जो एक सूत्रीय कार्यक्रम चला रहा है उसपर ज़ोरों से हंसी आ रही है. भूंजा खाओ, मस्त रहो. 
 
कांग्रेस के सूत्रों ने यहां कहा कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी गठबंधन को बनाए रखने के लिए आपसी रूप से स्वीकार्य समाधान निकालने के लिए नीतीश और लालू से बात करके गठबंधन के घटक दलों के बीच शांति कायम करने का प्रयास कर रही हैं.

(इनपुट भाषा से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement