NDTV Khabar

बिहार : सुशील मोदी बोले - भाजपा महागठबंधन सरकार को तोड़ने में विश्वास नहीं रखती

भाजपा ने रविवार को अपना पक्ष सामने रखते हुए कहा कि वह मध्यावधि चुनाव के पक्ष में नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार : सुशील मोदी बोले - भाजपा महागठबंधन सरकार को तोड़ने में विश्वास नहीं रखती

भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा कि हमारी पार्टी चाहती है कि यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करे...

खास बातें

  1. सुशील मोदी बोले - हमारी पार्टी चाहती है कि सरकार अपना कार्यकाल पूरा करे
  2. कहा - हम मध्यावधि चुनाव के पक्ष में नहीं, ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं होनी च
  3. जो भी राजनीतिक हालात उत्पन्न होगा पार्टी की संसदीय बोर्ड निर्णय लेगी
पटना: बिहार में महागठबंधन सरकार में शामिल जदयू और राजद के बीच जारी कटुता के बीच भाजपा ने रविवार को अपना पक्ष सामने रखते हुए कहा कि वह मध्यावधि चुनाव के पक्ष में नहीं है. भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने रविवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के रुख का समर्थन करते हुए आज कहा कि हम मध्यावधि चुनाव के पक्ष में नहीं है. ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि भाजपा महागठबंधन सरकार को तोड़ने में विश्वास नहीं रखती और हमारी पार्टी चाहती है कि यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करे. उन्होंने कहा कि जो भी राजनीतिक हालात उत्पन्न होगा उसके बारे में उनकी पार्टी की संसदीय बोर्ड निर्णय लेगी.

उल्लेखनीय है कि लालू प्रसाद के रेल मंत्रित्वकाल के दौरान 2004 में रांची और पूरी स्थित आईआरसीटीसी के दो होटलों का लाईसेंस निर्गत किए जाने के बदले लालू के परिवार को तीन एकड भूखंड दिए जाने के मामले में तेजस्वी यादव, लालू प्रसाद, राबड़ी देवी और पांच अन्य का नाम आने के मद्देनजर गत शुक्रवार को लालू के आवास सहित सीबीआई द्वारा 12 ठिकानों पर छापे के बाद करीब पांच दिनों तक चुप रही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू ने तेजस्वी से उन पर लगे आरोप के बारे में पूर्ण तथ्यों के साथ जनता की अदालत के बीच जाने को कहा था. लेकिन राजद प्रमुख ने गत 15 एवं 16 जुलाई की रात्रि में अपनी ओर से महागठबंधन को तोड़ने जाने से इनकार किया करते हुए अपने विधायक दल के उस निर्णय कि तेजस्वी के इस्तीफा का कहीं कोई प्रश्न ही नहीं उठता का हवाला देते हुए इसे 'राजनीति से प्रेरित' बताया था और कहा था कि सारी बातें पूर्व से पब्लिक डोमेन है, जिसे देखना है देखे.

बिहार विधान परिषद में प्रतिपक्ष के नेता सुशील ने आरोप लगाया कि राजनीति और 'लठैती' का फर्क मिटा चुके राजद प्रमुख लालू प्रसाद को लग रहा है कि वे अपने 80 विधायकों की 'लाठी' के बल पर वह नीतीश कुमार को झुका देंगे. वहीं जदयू को भी लग रहा है कि सरकार गिरने के डर से लालू प्रसाद झुक जायेंगे. वैसे सरकार गिरने से दोनों पक्ष डरे हुए हैं इसलिए उनके बीच शह—मात का खेल चल रहा है.

सुशील ने आरोप लगाया कि महागठबंधन के इन दोनों दलों के बीच जारी गतिरोध का खामियाजा पूरा बिहार भुगत रहा है. शासन-प्रशासन के सारे काम ठप्प है. उन्होंने कहा कि भाजपा तेजस्वी यादव के भ्रष्टाचार के खिलाफ नीतीश कुमार के लिए गए रुख के साथ है. नीतीश कुमार ने भी इसके पहले अनेक मुद्दों पर भाजपा और केन्द्र सरकार का समर्थन किया है. जदयू-राजद के बीच जल्द से जल्द आरपार का फैसला होना चाहिए.

सुशील ने कहा कि तेजस्वी यादव को अगर लम्बी राजनीति करनी है तो आरोपमुक्त होने तक उन्हें खुद इस्तीफा दे देना चाहिए. अपने पिता (लालू प्रसाद) के साए से बाहर निकल कर उन्हें ऐलान करना चाहिए कि जब वे नासमझ थे तब अपने पिता के कहने पर अनेक कंपनियों के कागजात पर दस्तखत कर दिए तथा उनके नाम से जो भी जमीन-मकान गिफ्ट कराये गए हैं उन्हें वे वापस कर देंगे.

उन्होंने आरोप लगाया कि दरअसल तेजस्वी को उनके पिता ने ही अपने भ्रष्टाचार के दलदल में फंसाया है. ऐसे में तेजस्वी को लालू प्रसाद नहीं बल्कि शरद यादव का अनुसरण करना चाहिए जिन्होंने हवाला कांड में नाम आने के तत्काल बाद लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. पिछले डेढ़ महीने में सुशील ने लालू और उनके परिवार पर करीब एक हजार करोड रुपये की 'बेनामी संपत्ति' होने का दावा किया था.

बिहार की महागठबंधन सरकार में शामिल जदयू और राजद में बढ़ती कटुता के बीच राष्ट्रपति चुनाव को लेकर साझा रणनीति तैयार करने के लिए इस सरकार में शामिल राजद और कांग्रेस द्वारा आज शाम पटना में अपने विधायकों की संयुक्त बैठक बुलाई हुई. वहीं जदयू ने इसके लिए अपने विधायकों की एक अलग बैठक मुख्यमंत्री आवास पर बुलाई थी.

करीब आधे घंटे चली इस बैठक में शामिल हुए संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार और उद्योग मंत्री जय कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री आवास से निकलने के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान बैठक में महागबंधन में जारी गतिरोध को लेकर कोई भी चर्चा होने से इंकार करते हुए बताया कि बैठक में केवल कल होने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर चर्चा हुई.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement