बिहार में अब शौचालय घोटाला, लाभार्थी के बजाय एनजीओ के खातों में डाला गया पैसा

पटना के जिला अधिकारी द्वारा इस सम्बन्ध में दर्ज कराई गई प्राथमिकी के अनुसार शौचालय बनाने का पैसा सीधे लाभार्थी के खातों के बदले कुछ एनजीओ और दो व्यक्ति के खाते में ट्रांसफर किया गया.

बिहार में अब शौचालय घोटाला, लाभार्थी के बजाय एनजीओ के खातों में डाला गया पैसा

प्रतीकात्मक चित्र.

पटना:

बिहार में नए-नए घोटालों का उजागर होना जारी है. नया घोटाला है राज्य में शौचालय घोटाला का. इसमें ग़बन की गई राशि क़रीब 13 करोड़ है. पटना के जिला अधिकारी द्वारा इस सम्बन्ध में दर्ज कराई गई प्राथमिकी के अनुसार शौचालय बनाने का पैसा सीधे लाभार्थी के खातों के बदले कुछ एनजीओ और दो व्यक्ति के खाते में ट्रांसफर किया गया.

ये घोटाला लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग का है और इसके मुख्य आरोपी हैं विनय कुमार सिन्हा जिन्होंने कार्यपालक अभियंता रहते हुए 2012 से 2015 तक दस हज़ार शौचालय के नाम पर पैसे का बंदरबाँट किया. ये घोटाला विभागीय जाँच के दौरान पटना के ज़िला अधिकारी द्वारा पकड़ा गई.

Newsbeep

यह भी पढ़ें : बिहार में उजागर हुआ एक और घोटाला, आरजेडी ने किया नीतीश कुमार पर हमला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


फ़िलहाल इस मामले में सिन्हा की गिरफ़्तारी जहाँ तय है वही एक लेखपाल को निलम्बित किया गया है. इस मामले की जाँच के दौरान कई अनियमितता पाई गई.
VIDEO: मिट्टी घोटाले में शिकंजा कसता जा रहा है

हालाँकि पूरे राज्य के स्तर पर जाँच हो तो इस घोटाले का दायरा और बढ़ सकता है.