NDTV Khabar

ट्रेनिंग घोटाला : निगरानी विभाग ने तीन वरिष्ठ IAS अधिकारियों समेत 10 के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की

यह मामला बिहार के महादलित विकास मिशन से संबंधित है. करीब चार करोड़ से अधिक की राशि के घोटाले की संभावना जताई गई है.

58 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रेनिंग घोटाला : निगरानी विभाग ने तीन वरिष्ठ IAS अधिकारियों समेत 10 के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की
पटना: निगरानी विभाग ने तीन वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों समेत दस लोगों के खिलाफ एक ट्रेनिंग घोटाले में प्राथमिकी दर्ज की है. यह मामला बिहार के महादलित विकास मिशन से संबंधित है. करीब चार करोड़ से अधिक की राशि के घोटाले की संभावना जताई गई है. जिन तीन आईएएस अधिकारियों के नाम इस प्राथमिकी में है. उनमें रिटायर्ड केपी रमाया, एसएम राजू और रवि  मनुभाई परमार शामिल हैं. रमाया, जनता दल यूनाइटेड से पिछला चुनाव भी लड़ चुके हैं. हाल में सृजन घोटाले की जांच में उनका नाम प्रमुखता से आया था कि उन्होंने भागलपुर के जिला अधिकारी रहते हुए सृजन के खाते में सरकारी पैसा जमा करने के आदेश दिए थे. वहीं राजू का नाम भी कई घोटालों में आ चुका है और राज्य सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद वह कोर्ट से ज़मानत मिलने के कारण गिरफ़्तार नहीं हुए जबकि परमार की छवि एक तेजतर्रार अधिकारी की रही है और पहली बार किसी घोटाले में उनका नाम आया है.  

EXCLUSIVE: MP से सामने आया श्मशान घोटाला, करोड़ों रुपये हुए रिलीज़, पर कागजों में ही बने 'मुक्तिधाम'

निगरानी विभाग द्वारा थाने में दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है कि महादलित विकास मिशन द्वारा बच्चों के लिए ट्रेनिंग के लिए एजेंसी के चयन में धांधली हुई. उसके बाद जिस एजेंसी को काम दिया गया उसने एक ही बच्चे का नाम एक से अधिक ट्रेनिंग सेंटर पर दिखाकर राशि की लूट की. एक ही काम के लिए निगरानी की प्रारंभिक जांच जो पिछले डेढ़ साल से चल रही थी उसमें पाया गया कि दो एजेंसियों को काम दिया गया. 

टिप्पणियां
नोएडा अथॉरिटी घोटाला : यादव सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत
फिलहाल इस प्राथमिकी के बाद अब इन अधिकारियों के साथ पूछताछ और गिरफ्तारी की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. निगरानी ने उन एजेंसियों को भी नामजद अभियुक्त बनाया है, जिन्हें ये काम का जिम्मा दिया गया था, लेकिन सबसे चौंकाने वाली बात है कि रमाया पर हर घोटाले में नाम आने के बाद राज्य सरकार ने उन्हें अभी भी बिहार भूमि न्याय अधिकरण का सदस्य बनाया हुआ है, जिससे जांच कर रहे अधिकारी मानते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का आशीर्वाद  उन्हें प्राप्त हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement