नीतीश कुमार को निशाना बनाते रहे गिरिराज सिंह आखिर शांत क्यों हो गए? यह है कारण

गिरिराज और उनकी तरह के बिहार बीजेपी के अन्य नेता जो जल जमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पानी-पानी करने में लगे थे, अब मौन हैं

नीतीश कुमार को निशाना बनाते रहे गिरिराज सिंह आखिर शांत क्यों हो गए? यह है कारण

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने सीएम नीतीश कुमार को निशाना बनाने का सिलसिला रोक दिया है.

खास बातें

  • गिरिराज को बिहार सरकार को घेरने की मुहिम में पार्टी नेतृत्व का समर्थन नही
  • सुशील मोदी के ट्वीट गिरिराज की सभी आलोचनाओं का जवाब माने गए
  • गिरिराज ने नीतीश के मुखर आलोचक के रूप में अपनी जगह बना ली
पटना:

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) अपने पार्टी हाई कमान की फटकार के बाद पिछले दो दिनों से शांत हैं. भाजपा के सूत्रों के अनुसार पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने फिलहाल उन्हें कोई भी ऐसा बयान देने से मना किया है जिससे गठबंधन पर प्रतिकूल असर पड़े. गिरिराज और उनकी तरह के बिहार भाजपा के अन्य नेता जो जल जमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को पानी-पानी करने में लगे थे, अब सब या तो मौन हैं, या शांत हैं. हालांकि बिहार भाजपा के कद्दावर नेता और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के करीबियों का हमेशा दावा था कि गिरिराज की अपनी सरकार को घेरने की इस मुहिम को पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का कोई समर्थन प्राप्त नहीं था.

खुद सुशील मोदी ने नीतीश कुमार के जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई के ट्वीट में दो अहम बातें लिखी थीं जो दरअसल गिरिराज की सभी आलोचनाओं का जवाब मानी जा रही थीं.

हालांकि मीडिया की इस खबर पर बिहार जनता दल यूनाइटेड के नेताओं, खासकर मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने, प्रतिक्रिया देने से यह कहकर इनकार कर दिया कि यह उनकी पार्टी का आंतरिक मामला है. वहीं गिरिराज समर्थकों का कहना है कि उन्होंने अपने वाणी को फिलहाल विराम दिया है, लेकिन नीतीश कुमार के मुखर आलोचक के रूप में उन्होंने अपनी जगह बना ली है. वहीं गिरिराज विरोधियों का मानना है कि अपने निजी प्रचार के चक्कर में उन्होंने एनडीए के घटक दलों के कार्यकर्ताओं में एक-दूसरे के प्रति संशय की स्थिति जरूर पैदा कर दी है.

जलजमाव मामले पर आलोचनाओं का सामना कर रहे CM नीतीश कुमार को लेकर क्या बिहार BJP बंट गई?

गिरिराज ने हालांकि जल जमाव में बिना पैर डाले हुए जनता दल नेताओं के शब्दों में मीडिया में खूब स्पेस तो लिया. लेकिन उसी बहाने उन्होंने जनता दल यूनाइटेड को इस बात को लेकर आगाह जरूर कर दिया कि बिहार भाजपा में अब दो गुट हैं, एक नीतीश और गठबंधन के समर्थकों का जिसका नेतृत्व सुशील मोदी और नंदकिशोर यादव जैसे नेता करते हैं और दूसरा गिरिराज सिंह जैसे नेताओं का जो चाहते हैं कि भाजपा को एक बार फिर विधानसभा चुनावों में जोरआज़माईश करनी चाहिए.

पटना में बाढ़ हुई कम, लेकिन बीजेपी-जेडीयू के बीच 'पानी सिर के ऊपर'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : नीतीश की फोटो पर गिरिराज का तंज, सीएम ने दिया जवाब