NDTV Khabar

उपेन्द्र कुशवाहा को क्यों क्रिकेट के ट्वंटी-ट्वंटी की जगह पसंद है गुल्ली-डंडा

केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने एनडीए के अंदर सीटों के तालमेल को लेकर बीस-बीस के फॉर्मूले को खारिज कर दिया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उपेन्द्र कुशवाहा को क्यों क्रिकेट के ट्वंटी-ट्वंटी की जगह पसंद है गुल्ली-डंडा

केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. कहा- क्रिकेट नहीं पता, गांव में जब पढ़ते थे तब गुल्ली-डंडा खेलते थे
  2. किसी को हिस्से से वंचित नहीं किया जाए
  3. अगले माह कार्यक्रम 'हल्ला बोल-दरवाजा खोल' शुरू करेंगे
पटना:

केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा आजकल पटना में जब भी संवाददाता सम्मेलन करते हैं तो माना जाता है कि विषय कोई भी हो लेकिन वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को निशाना बनाने से नहीं चूकेंगे. सोमवार को पटना में उन्होंने संवाददाता सम्मेलन अपने खीर सम्मेलन और एक और प्रस्तावित कार्यक्रम 'हल्ला बोल-दरवाजा खोल' के बारे में जानकारी देने के लिए बुलाया लेकिन इसमें उन्होंने विधिवत रूप से एनडीए के अंदर सीटों के तालमेल पर बीस-बीस के फॉर्मूले को खारिज कर दिया. उन्होंने अपनी मांग यह कहकर रखी कि किसी को हिस्सा से ज़्यादा नहीं. किसी को हिस्सा से कम नहीं.

कुशवाहा ने वर्तमान में सीटों के बंटवारे पर बीस-बीस के फॉर्मूले के बारे में कहा कि उन्हें क्रिकेट मैच का कोई आइडिया नहीं हैं क्योंकि उन्हें कभी खेलने का मौका नहीं मिला. गांव में जब पढ़ते थे तब गुल्ली-डंडा खेलते थे. इसलिए गुल्ली-डंडा वाले को ट्वंटी-ट्वंटी समझ में नहीं आता. इससे पूर्व खीर सम्मेलन के संदर्भ में कुशवाहा बोलने से नहीं चूके कि किसी को हिस्सा से वंचित नहीं किया जाए.


यह भी पढ़ें : 2019 चुनाव : बिहार में सीट बंटवारे को लेकर NDA के दो सहयोगी आमने-सामने, कुशवाहा की पार्टी ने दिया ये बयान

इन बयानों से साफ है कि वर्तमान में जो नीतीश कुमार को सीटों की संख्या के बारे में कयास लग रहे हैं उससे कुशवाहा खुश नहीं हैं. उनकी नाराजगी इस बात को लेकर है कि भाजपा नेतृत्व उनसे बात करने में कोई दिलचस्पी भी नहीं दिखा रहा. इसका एक कारण यह भी माना जा रहा है कि उनके बारे में तय माना जा रहा है कि वे देर सबेर लालू यादव के राजद के साथ जाएंगे. उनकी पार्टी के वरिष्ठ नेता नागमणी ने बयान भी दिया है कि जानबूझकर उन्हें महगठबंधन में भेजा जा रहा है.

टिप्पणियां

VIDEO : एनडीए से जुदा नहीं होंगे कुशवाहा

हालांकि कुशवाहा ने एक और कार्यक्रम 'हल्ला बोल-दरवाजा खोल' अगले महीने से शुरू करने की घोषणा की. इसके तहत राज्य की बदहाल शिक्षा व्यवस्था को उजागर किया जाएगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement