NDTV Khabar

आखिर क्यों इस कार्यक्रम में 'गैरमौजूदगी' के बावजूद चर्चा में रहे पीएम मोदी?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री के नाम की अपने भाषण में एक बार भी चर्चा नहीं की.

99 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
आखिर क्यों इस कार्यक्रम में 'गैरमौजूदगी' के बावजूद चर्चा में रहे पीएम मोदी?

खास बातें

  1. रामनाथ कोविंद ने बिहार के तीसरे कृषि रोड मैप का लोकार्पण किया
  2. नीतीश कुमार ने भाषण दिया लेकिन पीएम का जिक्र नहीं किया
  3. नीतीश बोले कि वह चाहते हैं हर भारतीय की थाली में बिहारी व्यंजन हो
पटना: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज बिहार के तीसरे कृषि रोड मैप का लोकार्पण किया लेकिन इस समारोह की ख़ास बात ये रही कि यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भले उपस्थित नहीं हो लेकिन कार्यक्रम में चर्चा का केंद्र वही रहे. जहां उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी और कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने अपने भाषण में प्रधानमंत्री की चर्चा करते हुए कहा कि ये कृषि रोड मैप प्रधान मंत्री के 2022 तक किसानो के ख़ुशहाल और उनकी आमदनी बढ़ाने में सहायक होगा, वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री के नाम की अपने भाषण में एक बार भी चर्चा नहीं की. इस समारोह में केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह को आमंत्रित नहीं किया गया था जबकि वो बुधवार को पटना में ही मोजूद थे.

मुंबई और शिरडी के बीच शुरू हुई विमान सेवा, राष्ट्रपति कोविंद ने दिखाई हरी झंडी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने भाषण में कहा कि इस रोड मैप का असल उद्देश्य बिहार में कृषि और इससे जुड़े 76 प्रतिशत लोगों की आमदनी बढ़ाना है. उन्होंने कहा कि ये उनका संकल्प और सपना है कि हर भारतीय के थाली में एक बिहारी व्यंजन हो. इस सम्बन्ध में उन्होंने मुज़फ़्फ़रपुर के साही लीची और भागलपुर के जरदालु आम की चर्चा की.

नीतीश कुमार ने कहा कि कि इस बार लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए क़रीब 1 लाख 54 हज़ार करोड़ रुपए ख़र्च होगा और जहां पहली बार राज्य में सब्ज़ी कि खेती करने वालों को इनपुट सब्सिडी दिया जाएगा. हालांकि नीतीश कुमार ने माना कि इससे पूर्व के दो कृषि रोड मैप के सभी लक्ष्यों को तो नहीं पूरा किया गया लेकिन उनका कहना था कि अधिकांश टारगेट को पूरा किया गया.

VIDEO- प्राइवेट सेक्टर में भी होना चाहिए आरक्षण- नीतीश कुमार

बिहार के किसानों की चर्चा करते हुए नीतीश ने कहा कि ये सबसे मेहनती होते हैं और तार्किक रूप से सोचते हैं, इसलिए अब राज्य में पटना से भागलपुर तक जैविक खेती का कॉरिडर बनाया जा रहा हैं. राज्य में पहली बार सिंचाई के लिए पानी को शिवरेज ट्रीटमेंट के बाद और अधिक ट्रीट कर वापस नदी में नहीं डाल कर खेती में उपयोग किया जाएगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement