NDTV Khabar

आख़िर CM नीतीश कुमार की किस बात के मुरीद हुए बिल गेट्स...

बिल गेट्स रविवार को पटना आए थे जहां उनकी मुलाक़ात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से हुई और उसके बाद उन्‍होंने राज्य सरकार के अधिकारियों के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र में चल रही परियोजनाओं की समीक्षा की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आख़िर CM नीतीश कुमार की किस बात के मुरीद हुए बिल गेट्स...

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और बिल गेट्स (Bill Gates)

खास बातें

  1. बिल गेट्स अपने भारत दौरे के दौरान कई राज्य के सीएम और पीएम से मिले
  2. बिल गेट्स पटना आए तो उनकी मुलाक़ात सीएम नीतीश कुमार से हुई
  3. गेट्स ने कहा कि वो नीतीश कुमार से मिले और दस वर्षों से उन्हें जानते हैं
नई दिल्ली:

बिल गेट्स अपने भारत दौरे के दौरान कई राज्य के मुख्यमंत्रियों और प्रधानमंत्री समेत केंद्र सरकार के मंत्री से मिले. लेकिन उन्होंने माना कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से वर्षों के बाद मिलने पर भी एक विषय पर उनकी जिज्ञासा देखकर वो खुद हैरान रह गए. बता दें, बिल गेट्स रविवार को पटना आए थे जहां उनकी मुलाक़ात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से हुई और उसके बाद उन्‍होंने राज्य सरकार के अधिकारियों के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र में चल रही परियोजनाओं की समीक्षा की. शाम में दिल्ली के एक अख़बार के कार्यक्रम में गेट्स ने कहा कि वो नीतीश कुमार से मिले और दस वर्षों से उन्हें जानते हैं. 

गिरिराज सिंह ने राजनीति से संन्‍यास लेने को लेकर कह दी यह बड़ी बात...

बिहार के सीएम के बारे में उन्‍होंने कहा, 'नीतीश कुमार ने काफ़ी अच्छा काम किया है, जिसमें उनकी संस्था भी सहयोगी रही, लेकिन एक लंबे अंतराल के बाद हुई इस बैठक में उन्हें अंदाज़ा भी नहीं था कि वो जलवायु परिवर्तन जैसा मुद्दा उठाएंगे. क्योंकि ये ऐसा मुद्दा है जिस पर सिएटल, वॉशिंगटन, लंदन या पेरिस में विचार का होता है, लेकिन पटना में वो मुझसे कह रहे थे कि देखिए ये सबसे बड़ा मुद्दा है और ये हमारे लिए एक समस्या है. मुझे इससे निबटने में जैसे पानी आपूर्ति, बीज जिससे इस समस्या को कम किया जा सके, उसमें मदद कीजिए.'


गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर लालू यादव ने नीतीश कुमार पर साधा निशाना, कहा- मौत सबको आनी है लेकिन...

टिप्पणियां

बता दें, निश्चित रूप से बिल गेट्स के इन वाक्यों से नीतीश कुमार को व्यक्तिगत तौर पर और उनके 'जल जीवन हरियाली' कार्यक्रम को एक अच्छा कॉम्प्लिमेंट मिला है. नीतीश ने कार्यक्रम के लिए क़रीब 24 हज़ार करोड़ का बजट रखा है जिसके अंतर्गत पानी के परंपरागत श्रोत जैसे नहर, कुएं या तालाब को फिर से पुनर्जीवित करना या वृक्षारोपण पर विशेष ज़ोर दिया गया है. नीतीश आने वाले दिनों में इसी 'जल जीवन हरियाली' को मुद्दा बनाकर अपनी राज्य भर की यात्रा करने जा रहे हैं.

तेजस्वी यादव बोले- कन्हैया और पप्पू मंजूर हैं लेकिन नीतीश और बीजेपी नहीं



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement