रामविलास पासवान की राज्यसभा सीट BJP ने LJP से छीनी, बिदके चिराग पासवान

बिहार में राज्यसभा की एक सीट पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा द्वारा तवज्जो नहीं दिये जाने के बाद लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने शनिवार को कहा कि यह सीट भगवा पार्टी की है और उम्मीदवार के चयन के लिये वह पूरी तरह स्वतंत्र हैं.

रामविलास पासवान की राज्यसभा सीट BJP ने LJP से छीनी, बिदके चिराग पासवान

लोकजनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान (फाइल फोटो).

पटना:

बिहार में राज्यसभा की एक सीट पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा द्वारा तवज्जो नहीं दिये जाने के बाद लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने शनिवार को कहा कि यह सीट भगवा पार्टी की है और उम्मीदवार के चयन के लिये वह पूरी तरह स्वतंत्र हैं.

चिराग के पिता और लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान के निधन के बाद यह सीट रिक्त हो गई थी. भाजपा ने इस सीट पर बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को उम्मीदवार बनाया है. इस सीट पर महागठबंधन उम्मीदवार नहीं उतारता है तो सुशील मोदी का निर्विरोध चुना जाना लगभग तय है. 

विपक्ष द्वारा उम्मीदवार उतारे जाने की स्थिति में 14 दिसम्बर को चुनाव होगा. चिराग ने अपनी पार्टी के 20वें स्थापना दिवस पर एक कार्यक्रम में पत्रकारों से कहा, ‘‘यह सीट भाजपा की है और यह फैसला उसे करना है कि वह उपचुनाव में किस पार्टी से उम्मीदवार खड़ा करना चाहती है.'' सवालों के जवाब में चिराग पासवान ने कहा कि उन्हें लगता है कि ‘‘जिस तरह से नई सरकार काम कर रही है, बिहार में किसी भी समय मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं.'' 

Newsbeep

लोजपा के 20वें स्थापना दिवस पर अपने दिवंगत पिता को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए चिराग ने कहा कि 28 नवम्बर 2000 को पार्टी की स्थापना आदरणीय राम विलास पासवान जी ने अपने राष्ट्रवादी सोच के साथ लोक जनशक्ति पार्टी की स्थापना की थी. मुझे गर्व है की पार्टी ने हमेशा राष्ट्रहित से प्रेरित होकर सभी जाति एवं धर्म के साथ काम किया और समाज को एक रखने में अहम भूमिका निभाई.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने ट्वीट कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा, ''इतने मुश्किल वक्त में भी मेरा हौसला नहीं टूटा. बिहार पर नाज़ करने के लिए अकेले चुनाव लड़ने का फ़ैसला लेना हुआ तो मैं घबराया नहीं. यहां कुछ लोग ऐसे भी है जिन्हें 15 साल सत्ता में रहने बाद भी 3 साथियों का सहारा लेना पड़ता है.''



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)