NDTV Khabar

राजद नेताओं ने कथित तौर पर नाबालिग रेप पीड़िता को वाहन से उतार फोटो खिंचाया, मामला दर्ज

राजद के कई नेताओं के खिलाफ सामूहिक बलात्कार पीड़ित एक नाबालिग लड़की को पुलिस वाहन से कथित तौर पर उतरने और आपबीती बताने के लिये मजबूर करने को लेकर मामला दर्ज किया गया है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राजद नेताओं ने कथित तौर पर नाबालिग रेप पीड़िता को वाहन से उतार फोटो खिंचाया, मामला दर्ज

फुटेज में दिख रहा है कि कुछ नेता मोबाइल से लड़की के साथ तस्वीरें ले रहे हैं और वीडियो तैयार कर रहे हैं. 

गया : राजद के राष्ट्रीय महासचिव आलोक कुमार मेहता और विधायक सुरेंद्र यादव समेत पार्टी के कई नेताओं के खिलाफ सामूहिक बलात्कार पीड़ित एक नाबालिग लड़की को पुलिस वाहन से कथित तौर पर उतरने और आपबीती बताने के लिये मजबूर करने को लेकर मामला दर्ज किया गया है. टीवी फुटेज में दिखाया गया है कि उनमें से कुछ अपने मोबाइल फोन पर लड़की के साथ तस्वीरें ले रहे हैं और वीडियो तैयार कर रहे हैं. मगध क्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक विनय कुमार ने बताया कि ऐसा उस वक्त हुआ जब राजद के तथ्यान्वेषी दल का पुलिस से सामना हुआ. वे चिकित्सीय जांच के लिये लड़की को अस्पताल ले जा रहे थे. उन्होंने पीड़िता को वाहन से उतरने और उसके साथ जो भी हुआ उसे बताने के लिये मजबूर किया. इसके अलावा उन्होंने उसकी पहचान सार्वजनिक की. तथ्यान्वेषी दल का गठन बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने किया था. 

 यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ : दो साध्वियों ने चार लोगों पर गैंगरेप के आरोप लगाए, जांच में जुटी पुलिस

पुलिस के अनुसार गत 14 जून को गया जिले में सशस्त्र युवाओं के एक समूह ने एक व्यक्ति को पेड़ से बांध दिया और उसकी पत्नी और 15 वर्षीय बेटी से कथित तौर पर बलात्कार किया. परिवार को उस वक्त रोक लिया गया जब वे 14 जून की रात को मोटरसाइकिल से जा रहे थे. इस घटना के बाद थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है और 20 युवकों को हिरासत में लिया गया है. उन्होंने कहा कि राजद के राष्ट्रीय महासचिव मेहता, गया जिले में बेलागंज से विधायक सुरेंद्र प्रसाद यादव, पार्टी की महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष आभालता, राजद के जिला अध्यक्ष मुर्शिद आलम उर्फ निजाम, राजद की महिला प्रकोष्ठ की जिला अध्यक्ष सरस्वती देवी और अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. उन्होंने बताया कि मामला भारतीय दंड संहिता और पॉक्सो अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज किया गया है. साथ ही पुलिस अधिकारियों के कर्तव्य निर्वहन में बाधा डालने को लेकर भी मामला दर्ज किया गया है. बिहार के पूर्व मंत्री मेहता ने अपने और दल के खिलाफ आरोपों को गलत बताते हुए कहा कि इसके पीछे की मंशा मामले से लोगों का ध्यान भटकाना है. 

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें : मध्यप्रदेश : प्रोफेसर ने किया नाबालिक छात्रा से बलात्कार, गिरफ्तार
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement