NDTV Khabar

मोतिहारी में चीनी मिल मजदूर की मौत के मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मोतिहारी में चीनी मिल मजदूर की मौत के मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग

प्रतीकात्मक फोटो.

मोतिहारी:

बिहार के पूर्वी चंपारण जिला मुख्यालय मोतिहारी में बंद पड़ी चीनी मिल खुलवाने और बकाया राशि के भुगतान की मांग को लेकर सोमवार को आत्मदाह की कोशिश करने वाले एक मजदूर की इलाज के दौरान मंगलवार को हुई मौत के बाद यह मामला तूल पकड़ने लगा है. मृतक के परिजनों ने इस मामले को हत्या करार देते हुए इसकी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग की है. वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं. मृतक मजदूर नरेश प्रसाद श्रीवास्तव के भाई ब्रजेश कुमार ने बुधवार को इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की.

ब्रजेश कुमार ने आरोप लगाया है कि उनके भाई नरेश ने आत्मदाह नहीं किया, बल्कि उनकी हत्या की गई है. इस हत्या के पीछे उन्होंने मिल के मालिक विमल नोपानी और मिल प्रबंधक आरपी सिंह की साजिश बताया.

इधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पूर्वी चंपारण के जिलाधिकारी अनुपम कुमार और पुलिस अधीक्षक जितेंद्र राणा को संयुक्त रूप से इसकी जांच करने का निर्देश दिया.


मामले पर पूर्वी चंपारण के पुलिस अधीक्षक जितेंद्र राणा ने बुधवार को कहा कि सोमवार को दर्ज एक प्राथमिकी में कुल 29 लोगों को नामजद आरोपी, जबकि 125 अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया था. इनमें से सात लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. उन्होंने बताया कि इस मामले में एक अन्य प्राथमिकी मृतक की पत्नी पूर्णिमा देवी के बयान के आधार पर दर्ज की जा रही है, जिसमें चीनी मिल मालिक नोपानी और मिल प्रबंधक आरपी सिंह नामजद आरोपी हैं.

उन्होंने बताया कि मृतक मजदूर नेता की पत्नी ने अपने बयान में आरोप लगाया है कि दोनों ने असामाजिक तत्वों को भेजकर आंदोलन स्थल का माहौल बिगाड़ा और पुलिस पर पथराव करवाया. उनका आरोप है कि हंगामे के बीच उनके पति को जलाकर मार दिया गया. राणा ने बताया कि इस मामले की जांच के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया है, जिसमें एक पुलिस उपाधीक्षक और तीन पुलिस निरीक्षक को शामिल किया गया है.

टिप्पणियां

उल्लेखनीय है कि मोतिहारी स्थित श्री हनुमान चीनी मिल मजदूर संघ पिछले 10-12 सालों से बंद पड़े चीनी मिल को खुलवाने और बकाया राशि के भुगतान सहित कई मांगों को लेकर सात अप्रैल को मिल के गेट के सामने आंदोलन कर रहा था. इस बीच संघ सदस्यों ने चेताया था कि यदि नौ अप्रैल तक उनकी मांगें नहीं सुनी जाती हैं तो वे आत्मदाह कर लेंगे.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement