केंद्र ने फिर नहीं मानी नीतीश कुमार की मांग,बाढ़ में हुए नुकसान के लिए दिए मात्र 953.17 करोड़ रुपये

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मांग को एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार ने नहीं माना है. बीते साल बाढ़ को लेकर  नीतीश सरकार की ओर से मदद के लिए 4200 करोड़ रुपये की मांग की गई थी.

केंद्र ने फिर नहीं मानी नीतीश कुमार की मांग,बाढ़ में हुए नुकसान के लिए दिए मात्र 953.17 करोड़ रुपये

बिहार को ये मदद बीते साल बाढ़ को लेकर जारी की गई है.

खास बातें

  • बीते साल आई थी बाढ़
  • केंद्र सरकार ने जारी की मदद
  • लेकिन नहीं मानी नीतीश कुमार की मांग
पटना:

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मांग को एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार ने नहीं माना है. बीते साल बाढ़ को लेकर  नीतीश सरकार की ओर से मदद के लिए 4200 करोड़ रुपये की मांग की गई थी. जिसका निपटारा करते हुए 27 मार्च को केंद्र की ओर से मात्र 953.17 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई है.  इसमें से 400 करोड़ रुपये पहले ही जारी कर दिए गए थे. आपको बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब केंद्र की ओर से नीतीश की मांग को ज्यादा तवज्जो नहीं दी गई है. साल 2018 में  भी 7600 करोड़ रुपये की मांग की गई थी और मिले थे मात्र 1900 करोड़ रुपये. 

इसको लेकर केंद्र सरकार की ओर जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक 8 राज्यों की मदद के  लिए गृहमंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में एक उच्चस्तरीय समिति ने  5,751.27 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है. इन राज्यों में बिहार, केरल, महाराष्ट्र, नागालैंड, ओडिशा, राजस्थान और पश्चिम बंगाल हैं जो बीते साल तूफान 'बुलबुल' सूखा और बाढ़ से प्रभावित थे. यह मदद राशि राष्ट्रीय आपदा राहत कोष की ओर से जारी की गई है. 

आपको बता दें कि बिहार को विशेष राज्य के दर्जे, केंद्रीय विश्वविद्लाय, केंद्रीय कैबिनेट में हिस्सेदारी से लेकर कई ऐसे मामले हैं जिसमें बिहार के सीएम नीतीश कुमार की बात सीधे तौर पर नहीं मानी गई है. फिलहाल इस नए फैसले से एक बार फिर बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को निशाना साधने का मौका मिल गया है.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com