NDTV Khabar

ऊर्जा मंत्रियों के सम्मेलन रद्द होने से नीतीश नाराज, कहा- राज्य सरकार की किरकिरी हुई

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीते 10 नवंबर से नालंदा जिला के राजगीर में केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा आयोजित होने वाले ऊर्जा मंत्रियों के सम्मेलन के रद्द होने पर सोमवार को नाराजगी जाहिर की है.

17 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ऊर्जा मंत्रियों के सम्मेलन रद्द होने से नीतीश नाराज, कहा- राज्य सरकार की किरकिरी हुई

नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. ऊर्जा मंत्रियों के सम्मेलन के रद्द होने पर सीएम नीतीश ने नाराजगी जाहिर क
  2. नीतीश ने कहा- इससे राज्य सरकार की किरकिरी हुई.
  3. सम्मेलन राजगीर में 10 और 11 नवंबर को आयोजित होना था.
पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीते 10 नवंबर से नालंदा जिला के राजगीर में केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा आयोजित होने वाले ऊर्जा मंत्रियों के सम्मेलन के रद्द होने पर सोमवार को नाराजगी जाहिर की है. नीतीश कुमार ने संवाददाता सम्मेलन के दौरान साफ शब्दों में कहा कि अंतिम समय में ऊर्जा मंत्रियों का सम्मेलन स्थगित नहीं होना चाहिए था. उन्होंने कहा कि अंतिम समय में इस आयोजन के रद्द होने से राज्य सरकार की किरकिरी हुई है. नीतीश कुमार केंद्र सरकार से इस मामले पर दुखी हैं. बता दें कि ऊर्जा मंत्रियों का दो दिवसीय सम्मेलन बिहार के राजगीर में 10 और 11 नवंबर को आयोजित होना था.

सूत्रों की मानें तो इस सम्मेलन में भाग लेने केलिए कई राज्यों के ऊर्जा मंत्री राजगीर और पटना पहुंच चुके थे. कुछ राज्यों के ऊर्जा मंत्री तो दिल्ली एयरपोर्ट पर भी पहुंच चुके थे. केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय ने एक दिन पहले इस आयोजन को इस आधार पर स्थगित कर दिया गया क्योंकि केंद्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री राजकुमार सिंह को केंद्रीय कैबिनेट में भाग लेना है. मगर जब राज्य सरकार ने उन्हें वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से सम्मेलन को संबोधित करने का आग्रह किया तो उन्होंने राज्य सरकार के इस प्रस्ताव को सिरे से खारिज कर दिया. हालांकि, राजकुार सिंह ने कहा कि अगली बार ये सम्मेलन बिहार में ही आयोजित किया जाएगा.

यह भी पढ़ें - ऊर्जा मंत्रियों का सम्मेलन रद्द, सीएम नीतीश कुमार ने सुने सोनू निगम के गीत

मगर नीतीश कुमार की नाराजगी इस बात को लेकर है कि कार्यक्रम स्थगित करने की सूचना अंतिम समय में दी गई. उनके मुताबिक, कार्यक्रम में के स्थगन से ये संदेश ये गया कि केंद्र और राज्य में सब काम सामान्य नहीं चल रहा है. हालांकि, नीतीश कुमार का मानना है कि ये आयोजन केंद्र सरकार का था और राज्य केवल सब कुछ इंतजाम कर रही थी. इसके अलावा उनका दावा था कि जो मंत्री आये उनकी खातिरदारी में किसी तरह की कोई कसर नहीं रहने दिया गया.

यह भी पढ़ें - ऊर्जा मंत्रियों का सम्मेलन स्थगित होने पर नीतीश पर भड़के लालू, 'बिहार में पैसा बर्बाद कर मचा रखी है लूट'

बता दें कि इस सम्मेलन के रद्द हो जाने के बाद राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने आरोप लगाया था कि राज्य सरकार का इसमें करीब 6 करोड़ रुपये खर्च हुए और इस तरह से सारा पैसा पानी में बह गया. मगर सोमवार को बिहार के ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि पूरे आयोजन पर एक करोड़ 90 लाख का खर्च अनुमानित था, जिसमें राज्य सरकार को 15 लाख का खर्च वहन करना था. 

VIDEO: देश में सौर ऊर्जा से आपार संभावनाएं


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement