NDTV Khabar

नीतीश कुमार बोले, 10 साल से बिहार के लिए विशेष राज्‍य के दर्जे की मांग कर रहे हैं

एनडीए की सहयोगी पार्टी जदयू ने सोमवार को बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा दिए जाने को लेकर अपनी चुप्‍पी तोड़ी है. नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा, हम पिछले 10 साल से बिहार के लिए विशेष राज्‍य के दर्जे की मांग कर रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नीतीश कुमार बोले, 10 साल से बिहार के लिए विशेष राज्‍य के दर्जे की मांग कर रहे हैं

नीतीश कुमार ने विशेष राज्‍य के दर्जे को लेकर तोड़ी चुप्‍पी

खास बातें

  1. JDU ने बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा दिए जाने को लेकर अपनी चुप्‍पी तोड़ी
  2. 10 साल से बिहार के लिए विशेष राज्‍य के दर्जे की मांग कर रहे हैं: नीतीश
  3. कुछ लोगों ने इस अर्थ लगाया कि हम इस मुद्दे पर चुप हैं
पटना:

एनडीए की सहयोगी पार्टी जदयू ने सोमवार को बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा दिए जाने को लेकर अपनी चुप्‍पी तोड़ी है. नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा, हम पिछले 10 साल से बिहार के लिए विशेष राज्‍य के दर्जे की मांग कर रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि हम इसकी लगातार मांग कर रहे हैं और इस मुद्दे को छोड़ेंगे नहीं. कुछ लोगों ने इस अर्थ लगाया कि हम इस मुद्दे पर चुप हैं, लेकिन हम हर रोज इसके बारे में बात नहीं करना चाहते हैं. इस मौके पर हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के नरेंद्र सिंह सीएम नीतीश कुमार की मौजूदगी में जेडीयू में शामिल हुए. 

इससे पहले केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने माना था कि केंद्र सरकार और भाजपा की अल्पसंख्यक विरोधी खासकर मुस्लिम विरोधी छवि सुधारने की जरूरत है. पासवान रविवार को पटना मेें एक संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे. उन्होंने पहले खुद कहा कि केंद्र सरकार के बारे में एक भ्रम फैलाया गया कि ये अल्पसंख्यक विरोधी और मुस्लिम विरोधी सरकार है. सरकार को अपनी पॉलिसी में कोई बदलाव करने की भले जरूरत ना हो, लेकिन अपने बारे में बने परसेप्शन को बदलने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि सरकार को और विनम्र होकर काम करने की जरूरत है. 

यह भी पढ़ें: रामविलास पासवान ने लालू यादव पर साधा निशाना, कहा - अंबेडकर से खुद की तुलना मत कीजिए


जब उनसे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उन बयानों के बारे में पूछा गया कि वो ईद नहीं मनाने की बात करते हैं, तब पासवान ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा है कि संविधान मेरा धर्म है और संविधान सोशल जस्टिस और सेक्युलरिजम के लिए प्रतिबद्ध हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसा बोलते हैं इसलिए मैंने कहा कि परसेप्शन को ठीक किया जाये. भाजपा के लोगों को इस विषय पर मंथन करना होगा. 

यह भी पढ़ें: प्रमोशन में आरक्षण के मसले पर रामविलास पासवान की इस मांग को नीतीश कुमार का समर्थन

टिप्पणियां

वही, बिहार और उतर प्रदेश के उपचुनाव के बारे में पासवान ने जहां बिहार में सहानुभूति को एक सबसे बड़ा कारण माना. वहीं, उतर प्रदेश के बारे में उनका कहना था कि वहां के लिए सोशल बनावट को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए. पासवान के अनुसार, लोगों को भूलना नहीं चाहिए कि बिहार और उतर प्रदेश में जातीय समीकरण विकास पर हमेशा भारी पड़ता है.

VIDEO: लालू जी जल्द ही बाहर आएंगे: राबड़ी देवी
उन्होंने बार-बार कहा कि इस संवादाता सम्मेलन के पूर्व उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से शनिवार शाम को मुलाकात की और बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी से भी रविवार सुबह बातचीत की. बातचीत में कहा कि बिहार में भले नीतीश हो या सुशील मोदी धर्म निरपेक्षता के प्रति उनके कमिटमेंट पर कोई सवाल नहीं उठा सकता. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement