NDTV Khabar

अभिभावक पेट काटकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं, लेकिन बिहार की शिक्षा में कुव्यवस्था : रघुवंश प्रसाद सिंह

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अभिभावक पेट काटकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं, लेकिन बिहार की शिक्षा में कुव्यवस्था : रघुवंश प्रसाद सिंह

सत्ता में भागीदार होने बाद भी RJD नेता रघुवंश प्रसाद सिंह नीतीश सरकार की खुलकर आलोचना करते रहते हैं

हाजीपुर: बिहार की शिक्षा व्यवस्था में फैले भ्रष्टाचार पर राज्य के सत्ताधारी गठबंधन ने ही तंज कसा है. सरकार में शामिल राष्ट्रीय जनता दल यानी आरजेडी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह का आरोप है कि बिहार में शिक्षा पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि राज्य की शिक्षा व्यवस्था में कुव्यवस्था पसरी हुई है. सरकार को सबसे पहले स्कूलों में पढ़ाई पर ध्यान देना चाहिए, न कि परीक्षा में कढ़ाई पर.

पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने यहां एक कार्यक्रम में कहा कि पहले बिहार के स्कूलों में ठीक ढंग से पढ़ाई हो, तब परीक्षा में कड़ाई हो. उन्होंने कहा कि बिहार में शिक्षा पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. स्कूलों में पढ़ाई नहीं हो रही और कड़ाई से परीक्षा लेने की बात हो रही है. सरकारी स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान देना जरूरी है, तभी परीक्षा सही ढंग से लेने की बात होनी चाहिए.

रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि राज्य में शिक्षा व्यवस्था सही नहीं है, यही कारण है कि यहां के बच्चे पढ़ने के लिए बाहर जाते हैं. सरकार की प्राथमिकता शिक्षा होनी चाहिए. शिक्षा में कुव्यवस्था व्याप्त है और इस पर ध्यान देने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि यह अच्छी बात है कि बच्चों को पढ़ाने के लिए अभिभावक सजग हुए हैं. वे अपना पेट काटकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं, लेकिन उनकी मेहनत पर यहां का सिस्टम पानी फेर रहा है.

बता दें कि परीक्षाओं में बार-बार धांधली उजागर होने के बाद बिहार सरकार ने इस साल मैट्रिक और इंटर की परीक्षा को नकल मुक्त बनाने के लिए कई कदम उठाए हैं.

(इनपुट आईएएनएस से भी)

टिप्पणियां



 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement