NDTV Khabar

हार्दिक पटेल नीतीश कुमार से दूरी बनाकर अब तेजस्वी यादव का साथ पाने के इच्छुक

पटना आए पटेल नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष हार्दिक ने कहा कि उनकी नीतीश में रुचि नहीं, तेजस्वी से मिलने की इच्छा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हार्दिक पटेल नीतीश कुमार से दूरी बनाकर अब तेजस्वी यादव का साथ पाने के इच्छुक

सीएम नीतीश कुमार ने दिसंबर 2016 में हार्दिक पटेल का गर्मजोशी से स्वागत किया था (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. हार्दिक ने कहा- नीतीश कुमार ने अपना रास्ता बदल दिया, वे बीजेपी के साथ
  2. नीतीश से बातचीत का कोई मतलब नहीं, क्योंकि मैं भाजपा के खिलाफ
  3. हार्दिक की पटना में दिसंबर, 2016 में नीतीश ने की थी आवाभगत
पटना: डेढ़ साल पहले बिहार के सीएम नीतीश कुमार से हाथ मिलाने वाले पटेल नवनिर्माण सेना (पनसे) के अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने अब यह कहते हुए उनका हाथ झटक दिया है कि नीतीश अब उनकी विरोधी पार्टी बीजेपी के साथ हैं. हार्दिक अब तेजस्वी यादव से हाथ मिलाने के इच्छुक हैं.

हार्दिक ने कहा है कि नीतीश कुमार से मुलाकात करने में उनकी कोई रुचि नहीं है, क्योंकि उन्होंने बीजेपी से हाथ मिला लिया है. शुक्रवार को यहां पहुंचे पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) अध्यक्ष लालू प्रसाद और उनके बेटे तेजस्वी यादव से मुलाकात की इच्छा जाहिर की. पटेल ने यहां पहुंचने के बाद मीडिया से कहा, "नीतीश कुमार ने अपना रास्ता बदल दिया है. वह अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ हैं. उनसे मिलने और बातचीत करने का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि मैं भाजपा के खिलाफ हूं."

यह भी पढ़ें : हार्दिक पटेल के 'लालटेन' थामने पर तेजस्वी यादव ने यह कहा...

हार्दिक यहां कुछ कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए आए हैं. उन्होंने कहा, "मैं लालू प्रसाद से मिलकर उनसे बात करना चाहता हूं, लेकिन मुझे पता चला है कि वह मुंबई में हैं, जहां उनका इलाज चल रहा है." उन्होंने कहा कि अब वह बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से मुलाकात करेंगे.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें : नीतीश कुमार पुराने रुख पर कायम, पाटीदारों को आरक्षण की मांग का किया समर्थन

इससे पहले दर्जनों की संख्या में युवकों ने पटना हवाईअड्डे पर हार्दिक की अगवानी की और उनके समर्थन में नारे लगाए. हार्दिक पिछली बार जब दिसंबर, 2016 में पटना आए थे, तब वह पटना हवाईअड्डे से सीधे मुख्यमंत्री नीतीश के आधिकारिक आवास पर गए थे. तब राज्य सरकार ने उन्हें वीआईपी सत्कार दिया था. लेकिन इस बार स्थिति अलग है. नीतीश कुर्मी जाति के हैं, और हार्दिक गुजरात में ताकतवर अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) की पटेल जाति के हैं, ठीक उसी तरह जिस तरह बिहार में कुर्मी हैं.
(इनपुट आईएएनएस से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement