NDTV Khabar

गुजरात के सोहेल हिंगोरा अपहरणकांड का मास्टरमाइंड बिहार STF ने गिरफ्तार किया

मास्टरमाइंड सोनू पिछले 4 साल से फरार चल रहा था. सोनू पुलिस से बचने के लिए झारखंड में रहा करता था.

3 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
गुजरात के सोहेल हिंगोरा अपहरणकांड का मास्टरमाइंड बिहार STF ने गिरफ्तार किया

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. सोहेल हिंगोरा के अपहरणकांड का मास्टरमाइंड अरेस्ट
  2. मास्टरमाइंड सोनू पिछले 4 साल से फरार चल रहा था
  3. 9 करोड़ की फिरौती वसूल की गई थी
पटना: गुजरात के एक बड़े व्यापारी सोहेल हिंगोरा के अपहरणकांड का मास्टरमाइंड को बिहार एस टी एफ़ ने गिरफ्तार किया है. बिहार एस टी एफ़ ने मास्टरमाइंड सोनू सिंह को हाजीपुर स्टेशन के पास से गिरफ्तार किया है. मास्टरमाइंड सोनू पिछले 4 साल से फरार चल रहा था. सोनू पुलिस से बचने के लिए झारखंड में रहा करता था। इस अपहरणकांड में 9 करोड़ की फिरौती वसूल की गई थी.

नवादा जिला के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में 10 अवैध पिस्तौल के साथ एक तस्कर गिरफ्तार

बहुचर्चित अपहरण कांड में लंबे समय से बिहार पुलिस को इसकी तलाश थी लेकिन अब ये बड़ी सफलता बिहार एसटीएफ के हाथ लगी है. इस अपहरणकांड के केस में फरार चल रहे अपराधियों को पकड़ने की जिम्मेवारी बिहार एसटीएफ को दी गई थी, तभी से ही एसटीएफ शुरू इस पर नजर बनाए थी. एसटीएफ को इसके बिहार आने की खबर मिली थी, हर मूवमेंट पर एसटीएफ अपनी नजर बनाए हुए थी और जैसे ही हाजीपुर स्टेशन पर ये पहुंचा, वहां से एसटीएफ ने इसे गिरफ्तार कर लिया.

इस चर्चित अपहरणकांड में अब तक की सबसे बड़ी रकम 25 करोड़ की फिरौती मांगी गई थी और 9 करोड़ रुपया फिरौती वसूल की गई थी. लगभग 4 सालों से इस किडनैपिंग के एक बड़े मामले में एसटीएफ  इसकी गिरफ्तारी का वारंट लेकर तलास कर रहा था  लेकिन ये शातिर किडनैपर लगातार पुलिस को चकमा दे रहा था. सोहेल हिंगोरा के किडनैपिंग का मामला बिहार के सारण जिले के नया गांव थाना में दर्ज किया गया था.

बिहार एसटीएफ के एसपी निलेश कुमार ने बताया की सोनू छपरा के नया गांव के चतुरपुर का रहने वाला है,और यह  फरार होने के दौरान इसने झारखंड में अपना ठिकाना बना रखा था. रांची में ये साउथ रेलवे कॉलोनी इलाके में रह रहा था. यह अपना ठिकाना बराबर बदलता रहता था. एसटीएफ ने इसे गिरफ्तार कर सीआईडी को सौंप दिया है. फ़िलहाल सोहेल हिंगोरा के अपहरणकांड का अनुसंधान सीआईडी कर रही है.

VIDEO : बिहार में अलग-अलग हादसों में 9 लोगों की डूबने से मौत


गौरतलब है कि अपराधियों ने 29 अक्टूबर 2013 को बिजनेसमैन हनीफ हिंगोरा के बेटे सोहेल हिंगोरा को दमन से अपहरण किया था, जिसके बाद उसे बिहार के सारण जिले के नयागांव के चतुरपुर गांव में रंजीत के घर में छिपा कर रखा गया था.  रंजीत के पिता झारखंड पुलिस में एएसआई थे.  अपराधियों के चंगुल से बेटे की रिहाई के बाद सोहेल के पिता हनीफ हिंगोरा ने फिरौती देने की बात कही थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement