NDTV Khabar

बिहार में कैसे एक नहर परियोजना उद्घाटन से पहले ही बह गई...

मंगलवार को 40 साल बाद पूरा हुए इस नहर परियोजना की नहर कहलगांव के एनटीपीसी मुरकटिया के पास टूट गई जिससे पानी भी पूरे इलाक़े में फैल गया है.

1099 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में कैसे एक नहर परियोजना उद्घाटन से पहले ही बह गई...

नीतीश कुमार नहर परियोजना का उद्घाटन करने भागलपुर जाने वाले थे (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बुधवार को भागलपुर नहीं जाएंगे. नीतीश बुधवार को भागलपुर में बटेश्‍वरस्‍थान पंप नहर परियोजना का उद्घाटन करने जा रहे थे. लेकिन मंगलवार को 40 साल बाद पूरा हुए इस नहर परियोजना की नहर कहलगांव के एनटीपीसी मुरकटिया के पास टूट गई जिससे पानी भी पूरे इलाक़े में फैल गया है. निश्चित रूप से ये घटना राज्य सरकार के लिए काफ़ी परेशानी का कारण बन गई है. मुख्यमंत्री सचिवालय ने उनके कार्यक्रम को रद्द करने की तुरंत सूचना दी. वहीं विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा कि जल संसाधन विभाग भ्रष्टाचार का अड्डा है. मुख्यमंत्री जी इस विभाग के भ्रष्टाचार पर ना जाने क्यों चुप रहते हैं?

दरअसल तेजस्वी का इशारा जल संसाधन मंत्री ललन सिंह की तरफ़ है जो नीतीश कुमार के काफ़ी क़रीबी माने जाते हैं. राजद के लोगों का आरोप है कि नीतीश कुमार किसी ना किसी मजबूरी से इस विभाग के काम या उसकी कारगुजारियों पर कभी नहीं बोलते.

राज्य में हाल में आई बाढ़ के समय भी विभाग के कामकाज की जमकर आलोचना हुई लेकिन नीतीश कुमार ने सबके लिए बारिश को मुख्य कारण माना था. लेकिन भागलपुर और उसके आसपास के कई जिलों के किसानों में निश्चित रूप से मायूसी छा गयी है. इस परियोजना से बिहार के भागलपुर और झारखंड के गोड्डा जिले के 22658 हेक्टेयर ज़मीन की सिंचाई प्रस्तावित थी. इस योजना की कुल लागत अब क़रीब 828 करोड़ हो गयी है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement