NDTV Khabar

अस्पताल में न डॉक्टर थे न बिजली, ऐसे में एक सफ़ाई कर्मचारी ने किया ऑपरेशन

बिहार के सहरसा के सदर अस्पताल में टॉर्च की रोशनी में एक सफाईकर्मी ने मरीज़ का ऑपरेशन किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अस्पताल में न डॉक्टर थे न बिजली, ऐसे में एक सफ़ाई कर्मचारी ने किया ऑपरेशन

बिहार में टॉर्च की रोशनी में हुआ महिला का ऑपरेशन

खास बातें

  1. सड़क दुर्घटना में घायल महिला को सदर अस्पताल लाया गया था
  2. अस्पताल में न डॉक्टर थे न बिजली
  3. ऐसे में एक सफ़ाई कर्मचारी ने टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन किया
पटना : बिहार के सहरसा के सदर अस्पताल में टॉर्च की रोशनी में एक सफाईकर्मी ने मरीज़ का ऑपरेशन किया. सड़क दुर्घटना में घायल महिला को सदर अस्पताल लाया गया था, जहां उसका ऑपरेशन होना था. 

अस्पताल में न डॉक्टर थे न बिजली, ऐसे में एक सफ़ाई कर्मचारी ने टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन किया. अस्पताल के सिविल सर्जन से जब संपर्क करने की कोशिश की गई तो पता चला कि वो पटना गए हुए हैं. 

जब अंधेरे कमरे में नाना पाटेकर के लिए सेलफोन के टॉर्च जल उठे...

बताया जा  रहा है कि एक महिला सड़क दुर्घटना में घायल हो गई, जिसे इलाज के लिए सहरसा सदर अस्पताल लाया गया. यहां उसका ऑपरेशन होना था और ऑपरेशन थियेटर में बिजली नहीं थी. पूरा अंधेरा था कुछ नज़र नहीं आ रहा था. किसी तरह से मोबाइल और टोर्च के रोशनी में महिला का ऑपरेशन किया गया. इस सारे ऑपरेशन की वीडियो रिकॉर्डिंग की गई. इस दौरान जब डॉक्‍टर से पूछा गया कि लाइट कब से नहीं है तो उन्‍होंने बताया कि कल से लाइट नहीं है. 

टिप्पणियां
इस पर उनसे पूछा गया कि अस्‍पताल में लाइट रहनी चाहिए और ऑपरेशन थियेटर में 24 घंटे बिजली रहनी चाहिए लेकिन वहां बिजली नहीं है. इस पर डॉक्‍टर का नाम पूछा गया तो पता चला कि अस्‍पताल का सफाई कर्मचारी है और उसका नाम शम्भु मलिक है.

VIDEO: यूपी के उन्नाव में टॉर्च की रोशनी में आंख का ऑपरेशन


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement