NDTV Khabar

क्या बिहार में सत्तारूढ़ गठबंधन का राजनीतिक बॉस भाजपा है?

बिहार के नेताओं का कहना है कि अगर जनता दल के नेता ये बात कह रहे हैं तो इससे साफ़ है कि गठबंधन का राजनीतिक नेतृत्व नरेंद्र मोदी और अमित शाह के पास है और नीतीश कुमार केवल बिहार के मुख्यमंत्री हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्या बिहार में सत्तारूढ़ गठबंधन का राजनीतिक बॉस भाजपा है?

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में पिछले 24 घंटे से एक बात साबित हो गई है कि सत्तारूढ़ गठबंधन का राजनीतिक बॉस भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व है और प्रशासनिक नेतृत्व जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथ में है. ये कहना और मानना है ख़ुद जनता दल यूनाइटेड के नेताओं का. रविवार को जब पार्टी ने बिहार विधान परिषद के लिए तीन प्रत्याशियों के नाम की घोषणा की, उससे कुछ घंटे पूर्व से उन विधान पार्षदों को बुलाकर पार्टी की बिहार इकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और आरसीपी सिंह ने यही कारण गिनाया कि भाजपा ने हमारी चौथी सीट देने की मांग को नहीं माना. इसके बाद हमारे पास कोई चारा नहीं था. पार्टी ने चारो विधान पार्षदों में से किसी को इस बार किसी को रिपीट नहीं किया. केवल नीतीश कुमार तीसरी बार विधान पार्षद चुने जाएंगे.

वहीं भाजपा के बिहार के नेताओं का कहना है कि अगर जनता दल के नेता ये बात कह रहे हैं तो इससे साफ़ है कि गठबंधन का राजनीतिक नेतृत्व नरेंद्र मोदी और अमित शाह के पास है और नीतीश कुमार केवल बिहार के मुख्यमंत्री हैं. उनका कहना है कि अपने नेताओं के सामने ये रोना रोकर कि भाजपा ने हमारी मांग नहीं मानी, जनता दल यूनाइटेड ने प्रचारित कर दिया कि इस बार भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के बिना बिहार में किसी का कोई पता नहीं खड़कने वाला.

भाजपा के नेताओं ने नाम नहीं छापने के शर्त पर कहा कि पहले गठबंधन में नीतीश कुमार की बात को अंतिम वाक्य माना जाता था लेकिन अब ना वो परिस्थिति हैं और ना उनकी राजनीतिक हैसियत.

इन नेताओं का कहना है कि जब नीतीश कुमार मज़बूत होते था तब उन्होंने 2010 में विधानसभा चुनाव में परिणाम आने के बाद अबके वित्त मंत्री अरुण जेटली की भाजपा मंत्रियों की संख्या बढ़ाने के आग्रह को टरका दिया था. उसके बाद 2012 में राज्यसभा चुनाव के समय मनमाने तरीक़े से चार सीटें ली थी.

टिप्पणियां
VIDEO: नीतीश का BJP को इशारा: सांप्रदायिकता से कोई समझौता नहीं

इसलिए जब नीतीश कुमार ने उप चुनाव के पहले चुनाव ना लड़ने और प्रचार से अलग रहने की घोषणा की तब पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के आदेश के बाद नीतीश कुमार को मन मार कर ना केवल जहानाबाद सीट पर प्रत्याशी देना पड़ा बल्कि उन्‍होंने सभी सीटों पर चुनाव प्रचार भी किया. जिससे उनकी राजनीतिक हैसियत का अंदाज़ा लगाया जा सकता है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement