राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनने के बाद पहली बार प्रशांत किशोर को मिली महत्वपूर्ण जिम्मेदारी, नीतीश कुमार ने सौंपा यह काम

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने नवनियुक्त राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) को पार्टी की युवा विंग को मजबूत करने का जिम्मा सौंपा है.

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनने के बाद पहली बार प्रशांत किशोर को मिली महत्वपूर्ण जिम्मेदारी, नीतीश कुमार ने सौंपा यह काम

प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) को युवा विंग को मजबूत करने कि जिम्मेदारी मिली है. (फाइल फोटो)

पटना:

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने नवनियुक्त राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर   (Prashant Kishor) को पार्टी की युवा विंग को मजबूत करने का जिम्मा सौंपा है. प्रशांत किशोर को पार्टी में यह पहली महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिली है. वह अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों की तैयारी के साथ युवा विंग को मजबूत करेंगे. जानकारी के मुताबिक प्रशांत किशोर ने दशहरा से पहले ही युवा विंग के विभिन्न जिलों के कुछ नेताओं के साथ अनौपचारिक बैठक की थी. अब पहली बार सोमवार को औपचारिक तौर पर सीएम नीतीश कुमार के अस्थायी निवास 7 सर्कुलर रोड में बैठक बुलाई गई है.

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को मिली JDU में नंबर 2 की कुर्सी, बनाए गए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

इस बैठक में राज्य के सभी ज़िलों के युवा विंग और छात्र इकाई के अध्यक्ष के अलावा सभी विश्वविद्यालय के पार्टी के नेता मौजूद रहेंगे. प्रशांत किशोर की कोशिश होगी कि पहले पार्टी के छात्र विंग और युवा विंग के बीच एक समन्वय स्थापित किया जाये. प्रशांत की रणनीति के अनुसार अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी के सभी विंग की भूमिका अहम होगी.छात्र और युवा विंग जब तक संगठित नहीं होंगे तब तक पार्टी अपने सहयोगियों और विरोधियों के प्रति आक्रामक नहीं हो सकती है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कामों और उपलब्धियों को आम जन तक पहुंचाने के लिए इनका भी इस्तेमाल किया जायेगा. 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर पटना में JDU के कार्यक्रम में ही शख्स ने सरेआम फेंकी चप्पल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हालांकि जानकारों का मानना है कि जहां तक प्रशांत किशोर को जिम्मेदारी देने का सवाल है, नीतीश कुमार कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहते हैं. इसलिए उन्हें पहली जिम्मेदारी छात्र और युवा विंग की दी है. पार्टी के नेताओं का मानना है कि जैसे-जैसे प्रशांत किशोर परिणाम देते जायेंगे, उनका कार्य क्षेत्र और जिम्मेदारी का दायरा भी बढ़ता जायेगा. दूसरी तरफ प्रशांत किशोर भले ही पार्टी के उपाध्यक्ष बन गए हों लेकिन उनकी पुरानी कम्पनी IPAC के लोग भी किसी न किसी रूप में उनका हाथ बंटाते रहेंगे. दूसरी तरफ, प्रशांत किशोर ने एक लाख ऐसे युवकों को भी पार्टी से जोड़ने का लक्ष्य रखा है जिन्होंने किसी न किसी माध्यम से नीतीश कुमार से जुड़ने की इच्छा जताई है. रविवार को ऐसे ही युवकों की बैठक प्रशांत किशोर पटना में ले रहे हैं. 

लोकसभा चुनाव 2019: अब JDU की ओर से प्रशांत किशोर करेंगे बीजेपी से सीटों की सौदेबाजी