NDTV Khabar

NDA से टीडीपी के अलग होते ही JDU ने फिर दोहराई ‘विशेष राज्य’ की मांग

बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल (युनाइटेड) ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) द्वारा बिहार को विशेष राज्य के दर्जे की मांग से पीछे हटने के आरोप पर पलटवार किया.

2.7K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
NDA से टीडीपी के अलग होते ही JDU  ने फिर दोहराई ‘विशेष राज्य’ की मांग

बिहार के सीएम नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. JDU ने फिर दोहराई ‘विशेष राज्य’ की मांग
  2. NDA से टीडीपी के अलग होते ही जेडीयू ने दी प्रतिक्रिया
  3. 'पार्टी ने यह मांग करती रही है और आगे भी करती रहेगी'
पटना: बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल (युनाइटेड) ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) द्वारा बिहार को विशेष राज्य के दर्जे की मांग से पीछे हटने के आरोप पर पलटवार करते हुए शनिवार को कहा कि पार्टी 2005 में सत्ता में आने के बाद से ही बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग करती रही है और आगे भी करती रहेगी. जद (यू) के प्रवक्ता और विधान पार्षद नीरज कुमार ने शनिवार को राजद पर तंज कसते हुए कहा कि यह मांग उन लोगों के लिए नई हो सकती है, जिसे अब इसमें राजनीतिक फायदा नजर आ रहा है. उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, "आज राजनीतिक लाभ लेने के लिए भ्रष्टाचार के मामले में सजा काट रहे राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद को भी जेल से ही बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की याद आ रही है, लेकिन उनकी पार्टी ने इसके लिए अब तक क्या किया, उन्हें यह भी बताना चाहिए?"

यह भी पढ़ें: दरभंगा हत्याकांड : पुलिस की जांच पर भी उठे कई सवाल, घटना में घायल शख्स का बयान क्यों नहीं हुआ दर्ज

राजद पर पलटवार करते हुए जद (यू) नेता ने कहा कि बिहार में सत्ता पर काबिज होते ही 2005 में तत्कालीन प्रधानमंत्री को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस मुद्दे को लेकर ज्ञापन भेजा था. इस मुद्दे को लेकर बिहार विधानसभा में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित करवाया और 17 मार्च 2013 को दिल्ली के रामलीला मैदान में अधिकार रैली भी की गई थी. इसके अलावा बिहार के 1.25 करोड लोगों के हस्ताक्षरयुक्त आवेदन पत्र केंद्र सरकार को सौंपे गए थे. उन्होंने तेजस्वी यादव को अवैध संपत्ति का 'युवराज' बताते हुए सवालिया लहजे में कहा कि जब केंद्र में संप्रग सरकार सत्ता में आई थी, तब राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद केंद्र में मंत्री रहते हुए बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्यों नहीं दिलवा सके? 

यह भी पढ़ें: चारा घोटाला: दुमका कोषागार मामले में लालू यादव और जगन्नाथ मिश्रा पर फिर टला फैसला

टिप्पणियां
उन्होंने कहा कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के लिए हम संघर्ष करते रहे हैं और आगे भी यह संघर्ष जारी रहेगा. इसमें किसी के उपदेश देने की जरूरत नहीं है. उल्लेखनीय है कि आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा देने की मांग का लेकर तेलुगू देसम पार्टी (तेदेपा) शुक्रवार को भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग हो गई.इसके बाद लालू ने ट्वीट कर कहा, "बिहार के विशेष राज्य के मुद्दे पर जुबान पर ताला क्यों लटक गया? रीढ़ की हड्डी सीधी रख कुछ आंध्र प्रदेश से सीखिए."

VIDEO: अररिया में देश विरोधी नारे पर बोले तेजस्वी- जांच का इंतजार करें
लालू ने आगे लिखा, "नीतीश की अंतरात्मा किस कैदखाने की काल-कोठरी में काली हो रही है. कुर्सी, विशेष बंगले और विशेष सुरक्षा के लिए बिहारियों के हक को क्यों बेच दिया? दोहरा मापदंड क्यों?"


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement