NDTV Khabar

नीतीश कुमार का बड़ा फैसला, बिहार के बाहर NDA का हिस्सा नहीं JDU- इन राज्यों में अकेले लड़ेगी चुनाव

नीतीश कुमार (Nitish kumar) की अगुआई में JDU की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की पटना में बैठक हुई. बैठक में एक बड़ा फैसला लिया गया कि जेडीयू बिहार के बाहर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) का हिस्सा नहीं होगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. नीतीश कुमार का बड़ा फैसला
  2. JDU-NDA गठबंधन बिहार तक सीमित
  3. जम्मू कश्मीर, झारखंड, हरियाणा, दिल्ली में अकेले लड़ेगी चुनाव
पटना:

लोकसभा चुनाव के बाद मोदी कैबिनेट (PM Modi) में जेडीयू से एक भी मंत्री न बनाए जाने से खफा बिहार के सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने BJP-JDU के रिश्तों पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए शनिवार को पटना में कहा था कि हम पहले भी साथ थे और आगे भी साथ रहेंगे. इसके एक दिन बाद ही पटना में जनता दल यूनाइटेड (JDU) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई. बैठक में एक बड़ा फैसला लिया गया कि जेडीयू बिहार के बाहर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) का हिस्सा नहीं होगी. बैठक में हुए फैसले के अनुसार नीतीश कुमार (Nitish kumar) की जनता दल यूनाइटेड बिहार के बाहर होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव अकेली लड़ेगी. पार्टी की तरफ से जारी बयान के अनुसार JDU जम्मू-कश्मीर, झारखंड, हरियाणा और दिल्ली में अकेले चुनाव लड़ेगी. जेडीयू की बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish kumar), पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर, केसी त्यागी सहित पार्टी के सभी बड़े नेता उपस्थित थे. बता दें कि JDU केंद्रीय मंत्रिमंडल का भी हिस्सा नहीं है. हाल ही में नीतीश कुमार ने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया, जिसमें जेडीयू के 8 नेताओं ने मंत्री पद की शपथ ली. वहीं, बीजेपी से किसी भी नेता को मंत्री नहीं बनाया गया.


उधर, बैठक के बाद  जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी (KC Tyagi) ने कहा कि मीडिया में चल रही हम दोनों पार्टियों के बीच की गलतफहमियों की खबर को सिरे से खारिज करते हैं. इस सरकार को हमारा बाहर से समर्थन जारी रहेगा. नीतीश कुमार ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए 171 सभाएं की. हमारा गठबंधन मजबूत है और जारी रहेगा. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने हमसे कहा था कि हमारा बहुमत है, लेकिन हम कोशिश कर रहे हैं कि सबको बराबर मौका दिया जाए. उन्होंने कहा कि शपथ समारोह के दिन भी अमित शाह ने फोन किया था. हमने किसी का नाम नहीं दिया था. लोगों के नामों से चलने वाली चर्चाएं गलत हैं. 

बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार (Nitish kumar) ने एक दिन पहले कहा था कि जेडीयू के किसी भी नेता को केंद्र (PM Modi) में मंत्रिमंडल न देने का मुद्दा अब खत्म हो गया है. उन्होंने (Nitish Kumar) कहा कि केंद्र (PM Modi) में बीजेपी की अपनी बहुमत की सरकार है और सरकार चलाने के लिए उनको किसी सहयोगी दल की जरूरत नहीं है. लेकिन अगर भविष्य को ध्यान में रखते हुए केंद्र और बिहार सरकार साथ मिलकर काम कर रही है. बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर नीतीश कुमार ने कहा कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में जेडीयू-बीजेपी साथ मिलकर लड़ेगी. इस पर कोई सवाल खड़ा करना गलत होगा.

मोदी सरकार का शपथ समारोह, जेडीयू ने बनाई दूरी; नीतीश बाबू क्यों बने शादी में 'नाराज फूफा'

टिप्पणियां

नीतीश कुमार पटना में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल न करने पर आपकी राय है तो उन्होंने कहा कि जो सांकेतिक प्रतिनिधित्व के आधार पर एक मंत्री शामिल किए जाने का ऑफ़र दिया गया था उसका कोई मतलब नहीं था. उसकी कोई आवश्यकता नहीं है . नीतीश ने कहा कि जो होना होता है वो प्रारंभ में होता है. उन्होंने कहा कि सरकार चलाने का जनादेश ख़ुद जनता ने उनको दिया है, तो उसमें सहयोगी दलों की क्या ज़रूरत है.

VIDEO: नीतीश कुमार की अध्यक्षता में JDU राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement