Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

लालू पर जेडीयू का पलटवार, कहा- लोगों को गाय से नहीं 'चारा खाने वालों' से लगता है डर

आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने कहा था कि 'पहले लोग शेर से डरते थे, अब गाय से डरते हैं. यह सब मोदी सरकार की देन है.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लालू पर जेडीयू का पलटवार, कहा- लोगों को गाय से नहीं 'चारा खाने वालों' से लगता है डर

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर जेडीयू ने पलटवार किया है.

खास बातें

  1. जेडीयू प्रवक्ता ने कहा- बिना सिर-पैर की बात करते रहे हैं लालू
  2. लालू प्रसाद को तथ्य और तर्क से कोई मतलब नहीं रहता
  3. सोनपुर मेले में पिछले वर्ष की तुलना में इस साल ज्यादा पशु आए
पटना:

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू प्रसाद के बयान पर जेडीयू ने पलटवार किया है. लालू ने कहा था कि 'पहले लोग शेर से डरते थे, अब गाय से डरते हैं. यह सब मोदी सरकार की देन है.'  इस पर सोमवार को जनता दल (यूनाइटेड) ने कहा कि लोगों को गाय से नहीं, 'चारा खाने वालों' से डर लगता है. जेडीयू ने लालू के इस आरोप को निराधार बताया कि विश्व प्रसिद्ध सोनपुर मेले में इस बार पशुओं की आवक में कमी आई है.

सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने दावा किया है कि सोनपुर मेले में पिछले वर्ष की तुलना में इस साल ज्यादा पशु पहुंचे हैं. जेडीयू के प्रवक्ता और विधान पार्षद नीरज कुमार ने लालू प्रसाद पर तंज कसते हुए कहा कि आज गाय के कारण लोगों को डर नहीं लग रहा है, बल्कि पिछले कई सालों से गाय का 'चारा खाने वालों' से डर लगता है.

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार की देन, पहले लोग शेर से डरते थे, अब लोग गाय से डरते हैं : लालू प्रसाद यादव


लालू प्रसाद ने रविवार को कहा था कि गाय व मवेशियों के साथ बढ़ते डर को देखकर सोनपुर का मवेशी मेला बिना मवेशियों वाले मेले में तब्दील हो गया है. सोनपुर मेला एशिया का सबसे बड़ा मवेशियों का मेला माना जाता है. नीरज ने लालू के बयान पर पलटवार किया. उन्होंने कहा, "लालू प्रसाद अपनी राजनीति में प्रारंभ से ही बिना सिर-पैर की बात करते रहे हैं. आज इतने अनुभवी होने के बाद भी वे बिना सिर-पैर की बात करते हैं."

टिप्पणियां

VIDEO : मुश्किल में लालू

विधान पार्षद ने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा, "पिछले वर्ष से इस साल सोनपुर मेले में ज्यादा पशु आए हैं. पिछले वर्ष मेले में जहां 119 गाय, 1031 बकरी, 18 भैंस, 1626 बैल व 2100 घोड़े पहुंच थे, वहीं इस साल अब तक इस मेले में 145 गाय, 2287 बैल, 5002 घोड़े, 121 भैंस और 1101 बकरियां पहुंची हैं. मेला समाप्त होने में अभी भी 13 दिन बाकी हैं." उन्होंने कहा कि लालू को तथ्य और तर्क से कोई मतलब नहीं रहता है. उनकी राजनीति ही जात-पात और समाज तोड़ने की रही है. आज जब उनके पुत्र और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा है, तब वे लोग जांच एजेंसियों से भाग रहे हैं.
(इनपुट आईएएनएस से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग अध्यक्ष का दिल्ली पुलिस पर आरोप, कहा- दंगाइयों को दी जा रही खुली छूट

Advertisement