NDTV Khabar

बिहार के अरवल जिले में पत्रकार को मारी गई गोली, जेडीयू विधायक के करीबी के बेटे पर आरोप

पीड़ित पंकज मिश्रा का कहना है कि दोनों ही आरोपी स्थानीय निवासी हैं और जेडीयू विधायक के काफी करीबी हैं.

5.7K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार के अरवल जिले में पत्रकार को मारी गई गोली, जेडीयू विधायक के करीबी के बेटे पर आरोप

फाइल फोटो

खास बातें

  1. पीड़ित को पटना मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया
  2. पीड़ित का नाम पंकज मिश्रा
  3. आरोपियों में JDU विधायक के पीए का बेटा भी शामिल
पटना: बिहार के अरवल जिले के बाशी इलाके में हिंदी समाचार पत्र से जुड़े एक पत्रकार को गोली मार दी गई है. पीड़ित का नाम पंकज मिश्रा है जो कि समाचार पत्र राष्ट्रीय सहारा के लिए काम करते हैं. यह घटना उस समय हुई है जब वह अपने गांव जा रहे थे. पुलिस ने दोनों हमलावरों की पहचान कर ली है. इनके नाम अंबिका महतो और कुंदन बताया जा रहा है इसमें से कुंदन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस का दावा है कि घटना के पीछे लूटपाट भी एक वजह हो सकती है.

पढ़ें :  बेगूसराय में हत्या के 11 साल पुराने मामले में लोजपा नेता सहित 6 को उम्रकैद

मिली जानकारी के मुताबिक पंकज मिश्रा स्थानीय कांग्रेस नेता भी हैं. गुरुवार को वह बैंक से एक लाख रुपए निकालने के बाद अपने गांव बंसी लौट रहे थे. रास्ते में उनके ही गांव के दो युवकों अंबिका और कुंदन ने उनकी गाड़ी रुकवा ली और पैसे, लैपटॉप छीनने लगे. विरोध करने पर पंकज की पीठ में गोली मार दी. पंकज ने इन दोनों का पीछा भी किया लेकिन जख्मी होने की वजह से थोड़ी दूर पर जाकर गिर पड़े. थोड़ी दूर पर कुछ स्थानीय निवासियों ने शोर मचाना शुरू कर दिया जिससे दोनों अपराधी भाग खड़े हुए. रास्ते से गुजर रहे मनोज कुमार नामक युवक ने पंकज को सोनभद्र प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया. जहां प्राथमिक चिकित्सा के बाद पंकज को सदर अस्पताल रेफर किया गया इसके बाद उन्हें पटना मेडिकल कॉलेज भेज दिया. बताया जाता है कि दोनों हमलावर पीड़ित पंकज के ही गांव बंशी के रहने वाले हैं और रिश्ते में चचेरे भाई हैं. कुंदन स्थानीय विधायक सत्यदेव कुशवाहा के पीए का बेटा भी है. कुंदन कुछ दिन पहले ही लूट के मामले में जमानत पर रिहा हुआ है.

पढ़ें :   बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी का आरोप- पार्टी के नेताओं ने मुझे हटाने की साजिश रची

वहीं पीड़ित पंकज मिश्रा का कहना है कि कुर्था विधानसभा सीट से जेडीयू विधायक सत्यदेव के काफी करीबी हैं. उनका आरोप है कि वह कुंदन के खिलाफ अखबार में कई रिपोर्ट दे चुके हैं जिसकी वजह से उनको निशाना बनाया गया है. यह लूट का मामला नहीं है.

वीडियो : गौरी लंकेश को क्या था नक्सलियों से खतरा 
गौरतलब है कि बिहार में पत्रकार इससे पहले राजदेव रंजन की हत्या पर भी दिल्ली तक काफी हंगामा हो चुका है. इसमें आरजेडी के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन का नाम सामने आया था. वहीं दो दिन पहले ही बेंगलुरू में पत्रकार गौरी लंकेश की भी हत्या हो चुकी है. जिसको लेकर काफी विरोध प्रदर्शन हो रहा है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement