NDTV Khabar

जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार बिहार में वामपंथी दलों का चेहरा होंगे

सीपीआई ने पटना के गांधी मैदान में 'भाजपा भगाओ, देश बचाओ रैली' का आयोजन किया, विपक्षी दलों के कई नेता शामिल हुए

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार बिहार में वामपंथी दलों का चेहरा होंगे

कन्हैया कुमार (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. रैली में राजद के नेता तेजस्वी यादव शामिल नहीं हुए
  2. कन्हैया कुमार ने केंद्र सरकार पर हमला किया
  3. संगठित होकर मुकाबला करने पर दिया जोर
पटना:

कई वर्षों के अंतराल के बाद सीपीआई ने पटना के गांधी मैदान में बृहस्पतिवार को 'भाजपा भगाओ, देश बचाओ रैली' का आयोजन किया. इस रैली में  केंद्र में सत्तारूढ़ एनडीए विरोधी अधिकांश दलों के नेता जहां मौजूद थे वहीं सीपीआई ने जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार को अपना चेहरा बनाकर पेश किया.

इस रैली में कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, शरद यादव, सीपीआई-एमएल के दीपांकर भट्टाचार्य, पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, NCP के डीपी त्रिपाठी और राजद के रामचंद्र पूर्वे सहित CPI के तमाम वरिष्ठ नेता मौजूद थे.

कन्हैया ने अपने भाषण में राज्य सरकार से अधिक केंद्र सरकार पर अपना हमला जारी रखा. कन्हैया ने कहा कि कि केंद्र की सरकार जुमले वादियों की सरकार है और इसके खिलाफ संगठित होकर ही मुकाबला किया जा सकता है. उन्होंने BJP को याद दिलाया कि जिस श्रीकृष्ण सिंह की जयंती वह आज मना रहे हैं वे बिहार में कांग्रेस के कई दशकों तक कर्ताधर्ता थे. उन्होंने कहा कि लेकिन देखिए बीजेपी की कथनी और करनी में फर्क, एक तरफ कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हैं, वहीं कांग्रेस पार्टी के संस्थापक में से एक डॉक्टर श्रीकृष्ण सिंह की जयंती भी मनाते हैं.

कन्हैया को डॉक्टरों से कोई दिक्कत नहीं, मंत्री पर लगाया राजनीति करने का आरोप


कन्हैया ने बार-बार अपने भाषण में देश में बेरोज़गारी और किसानों की बदहाल स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि जहां एक और उद्योगपतियों का तीन लाख सोलह हजार करोड़ से अधिक का कर्ज़ माफ़ किया गया है वहीं किसानों का पांच रुपये, दस रुपये और सौ रुपये कर्ज़ माफ़ किया जाता है.

हालांकि इस रैली में बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव नज़र नहीं आए लेकिन सभी नेताओं ने माना कि बिहार में नीतीश कुमार के ख़िलाफ़ लड़ाई तेजस्वी यादव के नेतृत्व में ही लड़ी जाएगी. कन्हैया ने भी अपने भाषण में तेजस्वी यादव के हाल के संविधान बचाओ-देश बचाओ यात्रा का ज़िक्र करते हुए कहा कि उनकी रेली मैं जैसी भीड़ उमड़ रही है वह साफ़ दिखाती है कि लोग केंद्र और राज्य सरकार से परेशान हैं.

टिप्पणियां

VIDEO : लोकसभा चुनाव लड़ेंगे कन्हैया

अब देखना यह है कि महागठबंधन के नेता आने वाले दिनों में लोकसभा चुनाव के लिए सीटों के तालमेल का मुद्दा कैसे सुलझा पाते हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement