नोटबंदी के विरोध में 8 नवंबर को राजद की राज्‍यव्‍यापी रैली

उन्होंने कहा कि वह भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से आगामी आठ नवम्बर को पूछेंगे कि 500 और 1000 रुपये के नोट को जानबूझकर बंद किए जाने से आम जनता को क्या लाभ पहुंचा.

नोटबंदी के विरोध में 8 नवंबर को राजद की राज्‍यव्‍यापी रैली

राष्‍ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद यादव (फाइल फोटो)

पटना:

बिहार में प्रमुख विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नोटबंदी की विफलता के खिलाफ इसे लागू किए जाने के दिन आगामी आठ नवंबर को राज्यव्यापी रैली करेगी. इन रैलियों के माध्‍यम से राजद लोगों को बताएगी कि इस काले आदेश का क्या दुष्‍प्रभाव देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ा. ये बातें राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने कहीं. लालू प्रसाद ने छपरा के डोरीगंज प्रस्थान करने से पूर्व कहा कि '8 नवंबर 2016 को केन्द्र की सरकार ने नोटबंदी का काला आदेश लागू कर देश की अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया था. पूरे देश मे नोटबंदी के कारण किसान, मजदूर, छात्र, संगठित-असंगठित क्षेत्र के कामगारों, घरेलू महिलाओं को बड़ी परेशानी उठानी पड़ी थी. लोगों को अपना काम धंधा को छोड़ कर नोट बदलवाने के लिए लंबी लंबी लाइनों में दिनदिन भर खड़ा रहना पड़ा था. कई लोगों ने तो लाइन मे ही दम तोड़ दिया था.'

उन्होंने कहा कि वह भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से आगामी आठ नवम्बर को पूछेंगे कि 500 और 1000 रुपये के नोट को जानबूझकर बंद किए जाने से आम जनता को क्या लाभ पहुंचा. लालू ने आरोप लगाया कि नोटबंदी ने छोटे कारोबारियों को भारी नुकसान पहुंचाया. लाखों लोगों को बैंक के बाहर पुराने नोट बदलने के लिए घंटों खड़े रहने को मजबूर होना पड़ा. इस निर्णय के कारण देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गयी है.

उल्लेखनीय है कि लालू ने गत 27 अगस्त को ‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ नारे के साथ केंद्र सरकार और भाजपा के साथ मिलकर बिहार में राजग की नई सरकार बनाने पर मुख्यमंत्री एवं जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के खिलाफ पटना के गांधी मैदान में महारैली का आयोजन किया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com