सृजन घोटाला : लालू बोले - सुशील मोदी पर इस आधार पर चलना चाहिए मुकदमा

लालू ने पूर्व में भी वित्त मंत्री रहे सुशील के कार्यकाल के दौरान इस गबन की शुरुआत होने का आरोप लगाते हुए पूछा कि वह इतने दिनों तक क्या कर रहे थे.

सृजन घोटाला : लालू बोले - सुशील मोदी पर इस आधार पर चलना चाहिए मुकदमा

लालू ने दावा कि सृजन घोटाला 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा का है...

पटना:

राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने भागलपुर जिला में संचालित गैर सरकारी संस्था (एनजीओ) सृजन महिला सहयोग समिति द्वारा सरकार का करोड़ों रुपये का घपला किए जाने की सीबीआई से जांच कराए जाने की मांग की है. पटना के दस सकुर्लर रोड पर अपनी पत्नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबडी देवी के आवास पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए लालू ने दावा किया कि पिछले गुरुवार को प्रकाश में आए इस घोटाले की राशि अब बढ़कर 1000 करोड़ रुपये पहुंच चुकी है और इस राशि को प्रदेश के बाहर ले जाए जाने के अलावा रियल एस्टेट के कारोबार में लगाया गया है. इसमें मनी लॉन्ड्रिंग होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि इस गबन में बैंक की मिलीभगत है, इसकी जांच के लिए राज्य की जांच एजेंसी सक्षम नहीं है. इसलिए, इसकी जांच सीबीआई एवं प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) करे .

लालू ने कहा कि वह नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) से आग्रह करेंगे कि वह इस मामले का विशेष ऑडिट कराए . उन्होंने इस मामले में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को बर्खास्त किए जाने की मांग की.

लालू ने पूर्व में भी वित्त मंत्री रहे सुशील के कार्यकाल के दौरान इस गबन की शुरुआत होने का आरोप लगाते हुए पूछा कि वह इतने दिनों तक क्या कर रहे थे. पशुपालन घोटाला में मुझ पर अगर इस आधार पर मुकदमा चला कि उन दिनों मैं वित्त विभाग का प्रभारी मंत्री था और मैं राजकोष से निकासी को रोक पाने में कथित रूप से असफल रहा तो ऐसी स्थिति में सुशील पर भी इस विफलता के लिए मुकदमा चलना चाहिए.

पढ़ें:  'सृजन घोटाला उजागर होने के बाद बिहार के स्वास्थ्य मंत्री बीमार, घर पर 4-4 डॉक्टर्स तैनात'

उन्होंने इस गबन के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को समान रूप से दोषी ठहराते हुए एक तस्वीर दिखायी, जिसमें एक मंच पर नीतीश, सुशील एवं भाजपा सांसद गिरिराज सिंह संस्था की संस्थापक मनोरमा देवी को सम्मानित कर रहे हैं.

VIDEO : हर जगह नीतीश की वादाख़िलाफ़ी का ज़िक्र

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वहीं, जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि फोटो के आधार पर आरोप नहीं लगाए जा सकते जब तक कि उसके बारे में पुख्ता दस्तावेज नहीं हो इस बीच, भागलपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार ने बताया कि यह घोटाला बढ़कर 600 करोड रुपये तक पहुंच गया है. इस मामले में पिछले गुरुवार को सृजन महिला सहयोग समिति के पदाधिकारियों , बैंक के पदाधिकारी, सरकारी कर्मी (जो खाते एवं उसके दस्तावेज की देख-रेख करता था), पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)